Breaking News
Download App
:

Hathras LIVE Updates: सीएम योगी ने हाथरस हादसे में घायलों से की मुलाकात, अब तक 121 की मौत, जानिए CM ने क्या कहां

top-news

Hathras LIVE Updates: नई दिल्ली: सीएम योगी आदित्यनाथ हाथरस पहुंचे। सीएम योगी ने भगदड़ में घायल हुए लोगों से हाथरस

Hathras LIVE Updates: नई दिल्ली: सीएम योगी आदित्यनाथ हाथरस पहुंचे। सीएम योगी ने भगदड़ में घायल हुए लोगों से हाथरस के जिला अस्पताल में मुलाकात की। इससे पहले उन्होंने अधिकारियों से मिलकर हाथरस पुलिस लाइन में हालात का जायजा लिया। हाथरस पुलिस लाइन में उनका हेलीकॉप्टर लैंड होने के बाद उन्होंने बैठक की। 


Hathras LIVE Updates: प्रमुख सचिव मनोज कुमार जीपी प्रशांत कुमार व प्रदेश सरकार के कई मंत्री रात से ही हाथरस में डेरा डाले हुए हैं। अलीगढ़ के पोस्टमार्टम हाउस पर मृतकों का पीएम जारी है। मंगलवार को ही सीएम योगी ने मृतकों के परिजनों को दो-दो लाख रुपए और घायलों को 50-50 हजार रुपए की आर्थिक सहायता दिए जाने की घोषणा की थी। 


Hathras LIVE Updates: बता दें कि सिकंदराराऊ क्षेत्र में मंगलवार को नारायण हरि साकार के नाम से प्रसिद्ध सूरजपाल उर्फ भोले बाबा के सत्संग के दौरान मची भगदड़ में 121 श्रद्धालुओं की मौत हो गई, जबकि सौ से अधिक लोग घायल हो गए। यह हादसा उस समय हुआ जब फुलरई मुगलगढ़ी में भोले बाबा सत्संग समाप्त करने के बाद बाहर निकल रहे थे। 


Hathras LIVE Updates: इस मामले में बाबा के खिलाफ कोई एफआईआर दर्ज नहीं हुई है। बल्कि बाबा के मुख्य सेवादार देव प्रकाश मधुकर निवासी न्यू कॉलोनी दमदमपुरा कस्बा सिकंदराराव हाथरस उत्तर प्रदेश के खिलाफ दर्ज किया है। कुछ सेवादार व आयोजकों पर अज्ञात में मुकदमा दर्ज किया गया है। पुलिस की एफआईआर में स्पष्ट किया गया है की आयोजकों ने 80,000 भीड़ की अनुमति मांगी थी और यहां पर क्षमता से अधिक भीड़ एकत्रित की गई। लाखों की भीड़ के जमा होने से व्यवस्था बिगड़ी। 

Hathras LIVE Updates: प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक, सवा लाख से अधिक लोग सत्संग में मौजूद थे। समापन के बाद हर कोई निकलने की जल्दी में था। गर्मी और उमस के कारण श्रद्धालु परेशान थे। इसी बीच बाबा का काफिला निकालने के लिए लोगों को रोका गया। हर कोई बाबा को नजदीक से देखना चाहता था। उनकी गाड़ी की धूल को पाना चाहता था। 


Hathras LIVE Updates: ऐसे में पीछे से भीड़ का दबाव बढ़ता गया। सड़क के करीब दलदली मिट्टी और गड्ढा होने के कारण आगे मौजूद लोग दबाव नहीं झेल सके औऱ एक के बाद एक गिरते चले गए। खासकर जमीन पर गिरीं महिलाओँ व बच्चों के ऊपर से लोग गुजरते चले गए। देखते ही देखते चीख-पुकार मच गई। बड़ी संख्या में लोग बेहोश हो गए।