Breaking News
CG Politics
CG Politics

CG Politics: साजा सीट पर सबकी नजर, सियासी संग्राम में रविंद्र चौबे और ईश्वर साहू , सियासी फिजां कौन किस पर पड़ेगा भारी, पढ़िए हाईप्रोफाइल सीट का समीकरण ….

 

CG Politics: बेमेतरा। छत्तीसगढ़ में चुनावी बिगुल बज चुका है। बीजेपी ने 85 प्रत्याशियों का लिस्ट जारी कर दिया है। वहीं कांग्रेस ने 30 उम्मीदवारों का ऐलान कर दिया है। वहीं अब राजनांदगांव और साजा सीट हाईप्रोफाइल हो गया है। राजनांदगांव से पूर्व सीएम डॉ. रमन सिंह और गिरीश देवांगन आमने सामने है।

CG Politics: बेमेतरा जिले की तीनों ही विधानसभा क्षेत्र इस बार हाईप्रोफाइल सीट में तब्दील हो गई हैं। सबसे पहले बात साजा विधानसभा क्षेत्र की, यहां इस बात की ही चर्चा है कि इस बार सियासत कौन सी करवट लेगा? हर किसी के जेहन में यही सवाल उठ रहा है, क्योंकि बीजेपी ने यहां बड़ा दांव खेलते हुए एक ऐसे लो प्रोफाइल व्यक्ति को टिकट दी है, जिसका कोई राजनीतिक बैकग्राउंड नहीं है।

CG Politics: -बिरनपुर हिंसा के पीड़ित ईश्वर साहू मैदान में

CG Politics: साजा विधानसभा से 7 बार चुनाव जीत चुके दिग्गज नेता रविंद्र चौबे के सामने भाजपा ने बिरनपुर हिंसा के पीड़ित ईश्वर साहू को मैदान में उतारा है। जिसके बाद ये सवाल सियासी फिजां में तैर रहे हैं कि कौन किस पर भारी पड़ेगा?

 

CG Politics: यह बड़ा सवाल साजा इलाके में इसलिए सबकी जुबां पर आ रहा है, क्योंकि जब भाजपा ने एकदम आम पृष्ठभूमि के गरीब ग्रामीण ईश्वर साहू को मैदान में उतारा तो कहा गया कि सरकार के वरिष्ठ मंत्री रवींद्र चौबे जैसे शेर के मुकाबले भाजपा ने बकरी को आगे कर दिया है।

 

CG Politics: लेकिन जब यही सवाल ईश्वर साहू से पूछा गया तो उसका जवाब था कि जब शेर को पिंजरे में बंद करना होता है, तब उसके सामने बकरी बांधी जाती है। छत्तीसगढ़ के सियासी इतिहास में शायद ये पहला मौका है जब पूरी तरह से सांप्रदायिकता के शिकार गरीब को फ्रंट फुट पर रखकर कोई चुनाव लड़ा जा रहा है।

CG Politics: भाजपा का ये हिंदुत्व कार्ड कितना काम करेगा

CG Politics: भाजपा का ये हिंदुत्व कार्ड कितना काम करेगा, इसे तो जनता 17 नवंबर को ईवीएम की बटन दबाकर तय करेगी। लेकिन फिलहाल बीजेपी से ईश्वर साहू और अब कांग्रेस से रविंद्र चौबे का नाम फाइनल हो जाने के बाद इस सीट पर आमने-सामने की लड़ाई शुरू हो गई है। रविंद्र चौबे जैसे कद्दावर के सामने ईश्वर साहू के मुकाबले का नतीजा चाहे जो हो, लेकिन ये तो तय है कि पूरे प्रदेश की नजरें बीजेपी के इस प्रयोग पर टिकी हैं।

CG Politics: ईश्वर साहू विशुद्ध रूप से गैर राजनीतिक व्यक्ति: भूपेश बघेल

CG Politics: मुख्यमंत्री भूपेश बघेल का कहना है कि ईश्वर साहू विशुद्ध रूप से गैर राजनीतिक व्यक्ति हैं। भाजपा लाख कोशिश करे लेकिन बिरनपुर मुद्दा नहीं हो सकता। डिप्टी सीएम टीएस सिंहदेव कहते हैं कि ये एक प्रयोग है भावनाओ से खेलने का, भाजपा सहानुभूति पाना चाहती है।

 

 

READ MORE: Acer ने लांच किया अपना इलेक्ट्रिक स्कूटर MUVI-125-4G, जानें कीमत

 

CG Politics: क्या कहता हैं साजा का सियासी समीकरण?

CG Politics: कांग्रेस हमेशा से बीजेपी पर सांप्रदायिकता को सियासी रंग देने का आरोप लगाती रही है। बीते पांच सालों में भूपेश बघेल की सरकार ने भी हर बार यही कहा। बिरनपुर में भी भाजपा पर ये आरोप लगे। इन सबके बाद भी हिंदू मतदाताओं को साधने की जुगत में भाजपा ने हिंदुत्व का ये बड़ा दांव खेलते हुए ईश्वर साहू को मैदान में उतारा है।

CG Politics: कांग्रेस के पास एकदम सीधा समीकरण और गणित है कि साजा रविंद्र चौबे का सुरक्षित गढ़ है और उनकी सरकार ने पांच सालों में ऐसे काम किए हैं कि जनता जीत दिलाएगी। लेकिन बीजेपी ने बहुत सारे समीकरण को ध्यान में रखकर ये चाल चली है।

 

CG Politics: भाजपा अस्तित्व में आने के बाद साजा में सिर्फ एक बार ही जीत सकी है। इस बार वो किसी भी हाल में ये सीट अपनी झोली में करना चाहती है, इलसिए उसने बिरनपुर हिंसा पीड़ित परिवार के सदस्य को चुनाव में उतरा। बीजेपी को लगता है कि वह ऐसा करके प्रशासन और स्थानीय विधायक के प्रति उपजी नाराजगी को भुना सकती है।

CG Politics: इनमें भी साहू और लोधी की अधिकता है

CG Politics: ईश्वर साहू ओबीसी वर्ग से है, लिहाजा वो पूरे प्रदेश में साहू समाज की सहानुभूति भाजपा के पक्ष में बटोरना चाहती है। भाजपा को ये पता है कि इस विधानसभा क्षेत्र की 65 प्रतिशत आबादी ओबीसी है। इनमें भी साहू और लोधी की अधिकता है। भाजपा के पास खोने के लिए साजा में कुछ नहीं है, लेकिन उसे उम्मीद है कि अगर उसका हिंदुत्व कार्ड चल गया तो वो सरकार के सबसे ताकतवर मंत्री को हरा सकती है।

 

CG Politics: क्या हुआ था बिरनपुर में?

 

CG Politics: इसी साल अप्रैल के महीने में साजा इलाके के बिरनपुर में दो समुदायों के बीच विवाद की स्थिति बनी। जिसके बाद गांव में हुई सांप्रदायिक हिंसा में ईश्वर साहू के बेटे भुवनेश्वर साहू की हत्या कर दी गई। बच्चों के झगड़े से शुरू हुए इस विवाद की आग में कई घर जल गए। 4 दिन बाद गांव में अल्पसंख्यक समुदाय के बाप बेटे की हत्या कर दी गई। दो हफ्ते तक बिरनपुर में कर्फ्यू लगा रहा। पुलिस ने मामले में दोनों समुदाय के दर्जनों लोगों की गिरफ्तारी की, लेकिन सबूतों के अभाव में सभी रिहा हो गए।

CG Politics: कौन है ईश्वर साहू

CG Politics: साजा इलाके के बिरनपुर गांव में रहने वाले ईश्वर साहू का कोई राजनीतिक बैकग्राउंड नहीं है। एकदम गरीब और आम मजदूर ईश्वर साहू की सिर्फ इतनी ही पहचान है कि वो बिरनपुर हिंसा में मारे गए युवक भुवनेश्वर का पिता है। छत्तीसगढ़ सरकार ने मृतक भुवनेश्वर साहू के परिवार के लिए 10 लाख रुपये के मुआवजे और सरकारी नौकरी का ऐलान किया था। लेकिन पीड़ित परिवार ने इसे लेने से इनकार करते हुए कहा था कि उन्हें पैसा और सरकारी नौकरी नहीं, न्याय चाहिए।

CG Politics: कौन हैं रविंद्र चौबे?

CG Politics: 7 बार साजा विधानसभा से चुनाव जीत चुके रविंद्र चौबे की गिनती कांग्रेस सरकार के सबसे ताकतवर मंत्रियों में होती है। अविभाजित मध्यप्रदेश में भी कैबिनेट मंत्री और छत्तीसगढ़ विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष रह चुके रविंद्र चौबे की पकड़ सिर्फ साजा विधानसभा ही नहीं, पूरे प्रदेश में है। करीब तीन दशक से सक्रिय राजनीति कर रहे रविंद्र चौबे को 1985, 1990, 1993, 1998, 2003, 2008 और 2018 में साजा विधानसभा से जीत मिली है।