Breaking News
Download App
:

Auction of Critical Mineral Mines: 5 क्रिटिकल मिनरल खदानों की नीलामी सरकार का खजाना, इतने करोड़ ​रायल्टी में होगा इजाफा

top-news

Auction of Critical Mineral Mines: केन्द्र सरकार छत्तीसगढ़ के पांच क्रिटिकल मिनरल खदानों की नीलामी के लिए इच्छुक कंपनियों से ऑफर बुलाए गए हैं। खास बात यह है कि प्रदेश में पहली बार क्रिटिकल मिनरल

रायपुर। Auction of Critical Mineral Mines: केन्द्र सरकार छत्तीसगढ़ के पांच क्रिटिकल मिनरल खदानों की नीलामी के लिए इच्छुक कंपनियों से ऑफर बुलाए गए हैं। खास बात यह है कि प्रदेश में पहली बार क्रिटिकल मिनरल का खनन होगा। क्रिटिकल मिनरल खदानों की नीलामी से आने वाले समय में 10 हजार करोड़़ रुपए रायल्टी के रूप में मिल सकते हैं। 



Auction of Critical Mineral Mines: छत्तीसगढ़ में आयरन, कोल, बॉक्साइट आदि मेजर, और रेत, चूना-पत्थर आदि माइनर मिनरल का खनन होता रहा है। अब क्रिटिकल मिनरल्स की श्रेणी में शामिल लीथियम, फॉस्फोराइट, ग्लूकोनाइट, और टंगस्टन मिनरल्स मिलने की पुष्टि होने के बाद नीलामी शुरू हो गई है। कोरबा के कटघोरा स्थित लीथियम की खदान नीलाम हो चुकी है। अब फॉस्फोराइट, ग्लूकोनाइट, और टंगस्टन की पांच खदानों की नीलामी की प्रक्रिया चल रही है। 






Auction of Critical Mineral Mines: महासमुंद जिले में ग्लूकोनाइट की दो खदानों के मंगाए गए आफर

 
जानकारी के अनुसार महासमुंद जिले में ग्लूकोनाइट की दो खदानों के लाईसेंस के लिए आवेदन मंगाए गए हैं। इसके साथ ही साथ फॉस्फोराइट की दो, और टंगस्टन की एक खदान की नीलामी प्रक्रिया चल रही है। टंगस्टन की खदान रायगढ़ में है। फॉस्फोराइट का उपयोग उर्वरक और दवा उद्योग आदि में होता है। देश के कई राज्यों में फॉस्फोराइट की खदान है, लेकिन ज्यादातर फॉस्फोरस विदेशों से आयात होता है। 


Auction of Critical Mineral Mines: कुछ इसी तरह ग्लूकोनाइट की भी खदानें हैं। ग्लूकोनाइट का उपयोग दवा उद्योगों में होता है। इसके अलावा टंगस्टन का उपयोग भारी उद्योगों के अलावा खनन और पेट्रोलियम कार्यों में किया जाता है। केन्द्र सरकार ने इन खनिजों को क्रिटिकल मिनरल की श्रेणी में रखा है, और इसकी नीलामी भी भारत सरकार करती है। 


Auction of Critical Mineral Mines: इन कंपनियों ने दिखाई दिलचस्पी


जानकारी के अनुसार क्रिटिकल मिनरल्स की खदानों के लिए देश के नामी-गिरामी कंपनियों ने दिलचस्पी दिखाई है। वेदांता, जिंदल, सहित कई कंपनियों ने बोली लगाई है। राज्य शासन से जुड़े सूत्रों के मुताबिक चयनित कंपनियों को कंपोजिट लाईसेंस जारी किया जाएगा। यानी वहां खनिज पर्याफ्त मात्रा में मिलने की पुष्टि होने पर उत्खनन की भी अनुमति दी जाएगी।



Auction of Critical Mineral Mines: कुल मिलाकर इन खनिजों की नीलामी की प्रक्रिया जुलाई माह के आखिरी तक पूरी हो जाएगी। राज्य सरकार के अफसरों का मानना है कि आने वाले समय में क्रिटिकल मिनरल्स से करीब 10 हजार करोड़ तक राज्य को रायल्टी मिल सकती है।