Breaking News

इन सब्जियों से रहें सतर्क वरना … खाने से हो सकते हैं ये नुक्सान ….

 

health tips hindi सब्जियां खाना सेहत के लिए बहुत लाभकारी होता है। हर बीमार व्यक्ति जब डॉक्टर के पास अपना इलाज करवाने जाता है तो डॉक्टर भी उन्हें हरी सब्जी खाने की सलाह देता है। सब्जियों के बिना खाने की कल्पना भी नहीं की जा सकती है। अधिकांश सब्जियां सर्दियों के मौसम में सस्ती हो जाती है। लोग इस मौसम में सब्जियां खाते भी ज्यादा हैं लेकिन कुछ सब्जियां ऐसी हैं जिनका सेवन बड़ी सावधानी से करना होता है क्योंकि इनमें हानिकारक कीड़ें होते हैं जिन्हें फीताकृमि भी कहा जाता है।

READ MORE : One Day Match: मुनाफाखोरी का खेल, कल होने वाले मैच के 40 हजार टिकट गायब!, 2 से 3 हजार तक की टिकट में दलाली…

ये कीड़ें इतने घातक होते हैं कि इनका लार्वा गर्म पानी में जिंदा रह सकता है। अंत में यह खून के माध्यम से दिमाग में भी पहुंच सकता है जो कई बीमारियों को जन्म दे सकता है। इसके साथ ही ये कीड़ें पेट के लिए बहुत नुकसानदेह हैं। आइए जानते हैं कौन से वे कीड़ें हैं जो सब्जियों में छुपे रहते हैं।

READ MORE : Bollywood: फिल्म के सेट पर लेटलतीफी की वजह से चर्चा में रहते हैं ये बॉलीवुड सितारे, लिस्ट देखकर रह जाएंगे दंग

कच्ची सब्जियों में टेपवर्म हो सकता है जो इंसान को संक्रमित कर सकता है। फीताकृमि के लिए सबसे मनपसंद सब्जी फूलगोभी और बंदगोभी है। ये कीड़ें बहुत छोटे होते हैं। कुछ इतने छोटे होते हैं कि इन्हें आंखों से देखा भी नहीं जा सकता है। ये फूलगोभी के बहुत अंदर छुपे होते हैं और अधिक तापमान पर भी जिंदा रहते हैं। ये कीड़े खून के माध्यम से दिमाग में भी पहुंच सकते हैं जिससे वहां लार्वा जमा हो सकता है। अगर ऐसा होता है तो दिमाग सहित लिवर और मसल्स में घातक बीमारियां पनप सकती है।

READ MORE : फिर चला चाकू, आदिवासी युवक घायल, मोटरसाइकिल एवं मोबाइल लूट लिया, युवक अस्पताल में भर्ती

इसी तरह बैंगन भी एक संभलकर खाई जाने वाली सब्जी है क्योंकि बैंगन में भी टेपवर्म यानी कीड़ा होने का जोखिम रहता है। माना जाता है कि बैंगन में जो सीड्स दिखते हैं उसमें फीताकृमि चिपके हो सकते हैं जो सीधा दिमाग में घुस सकता है। इससे बचने के लिए बैंगन को अच्छे से पकाना जरूरी है।

READ MORE : SBI Customers Alert: SBI के खाते से कट रहे 147.50, SBI के 45 करोड़ ग्राहक पढ़ लें ये खबर, नहीं तो ..

शिमला मिर्च में भी टेपवर्म होने का खतरा है। शिमला मिर्च के अंदर टेपवर्म अपना लार्वा छोड़ सकता है जो सीधे खून के माध्यम से दिमाग में घुस सकता है। इसलिए शिमला मिर्च को बहुत अच्छे से पकाना चाहिए।

Join Whatsapp Group