TopTextSliderबिग स्टोरीस्टोरीज इन फोकस

हड़कंप: राज्य में इस बीमारी की चपेट में आकर 4 हजार मवेशियों की मौत, 90 हजार से अधिक…पढ़ें पूरी खबर

जयपुर: देश में इन दिनों कोरोना वायरस, मंकीपॉक्स और स्वाइनफ्लू जैसे संक्रामक रोग तेजी से फैलते जा रहे हैं. इसी बीच एक और संक्रामक रोग की एंट्री ने दहशत फैला दी है. चौंकाने वाली बात ये है कि यह बीमारी मवेशियों मे ज्यादा फैल रही है.

यहाँ हम जिस बीमारी की बात कर रहे हैं उसने राजस्थान में हाहाकार मचा रखा है. लंपी (Lumpy) नामक इस संक्रामक रोग की चपेट में आकर करीब 4000 मवेशियों की जान जा चुकी है, वहीं 90 हजार से अधिक मवेशी संक्रमित बताए जा रहे हैं।

READ MORE: Coronavirus In India: कल की तुलना में आज सामने आए 50 फीसदी ज्यादा मामले, नहीं थम रहा मौतों का सिलसिला, पढ़ें ताजा मेडिकल बुलेटिन

राजस्थान के CM अशोक गहलोत ने किसानों से अपील करते हुए कहा है कि अगर पशुओं में बीमारी से जुड़े हुए कोई भी लक्षण दिखाई दे तो वह तुरंत पशु स्वास्थ्य चिकित्सालय में जाकर संपर्क करें।

उन्होंने आगे कहा है कि सरकार मवेशियों की सुरक्षा के लिए हर संभव प्रयास कर रही है। उन्होंने पशुपालकों से अपील करते हुए कहा है कि चिकित्सकों के बताए अनुसार सावधानी बरतें। साथ ही गहलोत ने अपने ट्वीट में लिखा है कि गौशाला संचालक, जनप्रतिनिधि गण एवं समाजसेवी संस्थाएं से अपील करता हूं की बीमारी नियंत्रण एवं रोकथाम में सरकार का सहयोग करें।

READ MORE: दुनिया पर मंडरा रहा नया खतरा, कोरोना से भी खतरनाक Heartland Virus, जानें क्या हैं लक्षण, कैसे फैल रहा

जानकारी के अनुसार राजस्थान में 4000 से अधिक पशुओं की मौत लंपी नामक संक्रमित त्वचा रोग से हो चुकी है। वही लगभग 90000 से अधिक मवेशी संक्रमण की चपेट में है। बताया गया है कि यह लंबी नामक बीमारी त्वचा में गांठ बनाकर फैलती है। शरीर में जगह जगह गांठ बन जाते हैं और उनमें धीरे-धीरे पस बनकर निकलने लगता है।

एक मीडिया में प्रकाशित पशु स्वास्थ्य विभाग के बयान के मुताबिक, लंपी नामक यह बीमारी उत्तर प्रदेश के 16 जिलों में फैल चुकी है। जहां सर्वाधिक मवेशी प्रभावित हैं। इसमें बाड़मेर, जालौर, पाली, सिरोही बीकानेर, अजमेर, नागौर जयपुर, सीकर, झुंझुनू, उदयपुर और जोधपुर जैसे जिले शामिल है। वही बताया गया है कि गंगानगर, हनुमानगढ़ और चूरू जिले में इसका असर कम हो रहा है। मवेशियों को बचाने के लिए हर संभव प्रयास किए जा रहे हैं। लेकिन संक्रमण इतना तेजी से फैलता है कि कई बार इलाज के दौरान ही मौत हो जाती है।

READ MORE: Coronavirus : बच्चों के लिए डेल्टा वेरिएंट है सबसे ख़तरनाक? रिसर्च में हुआ खुलासा

Back to top button