Uncategorized

वन परिक्षेत्र किरनापुर ने वन्यप्राणी के मांस सहित 4 लोगों को किया गिरफ्तार

सफीक खान, बालाघाट, मध्य प्रदेश। बीते 05 अगस्त को किरनापुर वन विभाग को मुखबिर से सूचना प्राप्त हुई थी कि वन परिक्षेत्र किरनापुर अंतर्गत जंगल से लगे राजस्व के खेत में जंगली सुअर का शिकार किया गया है, जिसके बाद तत्काल वन परिक्षेत्र अधिकारी किरनापुर के द्वारा टीम का गठन करते हुए तत्काल मौके पर भेजा गया। इस दौरान मौके पर वन अमले के द्वारा देखा गया कि जंगली सुअर को झाड़ियों के किनारे काटकर पकाया गया है जिसके बाद दबिश देते हुए खोजबीन की गई। जिसमे जानकारी मिली कि जंगल से पहाड़ी के रास्ते नीचे राजस्व खेत के अंदर वन्यप्राणी जंगली सुअर भटककर खेत में आ गया था।

READ MORE :CG Weather Update : छत्तीसगढ़ के इन जिलों में होगी झमाझम बारिश, मौसम विभाग में जारी किया येलो अलर्ट…

खेत के मालिक परमेश्वर मरावी अपने अपने साथी खेमनला के के साथ धान के खेत में खाद का छिड़काव कर रहा था। वहीं पर जंगल में अन्य 02 आरोपी रवि एवं राधेलाल ढीमर बकरी चरा रहे थे। इसी दौरान परमेश्वर के बुलाने पर तीनों लोग परमेश्वर के खेत में अपने पांचवे साथी अखिलेश की मदद से वन्यप्राणी जंगली सुअर को पहले हाका लगाकर पकड़ लिया जिसके बाद पांचों ने निर्ममता पूर्वक कुल्हाड़ी से उसकी हत्या कर उसके टुकड़े टुकड़े किये एवं मांस को पकाया गया। घटना के बाद आरोपी परमेश्वर के निवास स्थान की तलाशी ली गई तो उसके घर से वन्यप्राणी चीतल के 04 नग सींग, करंट फैलाने वाला 420 ग्राम जी आई तार एवं 14 मीटर बिजली के तार के साथ मांस काटने में उपयोग की गई लकड़ी एवं कुल्हाड़ी जिसपर वन्यप्राणी सुअर खुन लगा हुआ था, बांट सहित खून से लथपथ लोहे का तराजु पाया गया। मामले में आरोपियों से पुछताछ करने पर उन्होंने वन्यप्राणी जंगली सुअर का शिकार करने का जुर्म कबूल किया गया। आरोपियों को गिरफ्तार कर उनके खिलाफ वन्यजीव संरक्षण अधिनियम 1972 के तहत धारा 2, 9, 39, 50 एवं 51 के तहत मामला दर्ज कर कार्रवाई की गई।

READ MORE :Raipur Big Breaking : बसंत विहार कॉलोनी में अज्ञात हमलावरों ने चलाई गोली, एक शख्स हुआ घायल

उक्त कार्रवाई वन परिक्षेत्र अधिकारी शिशुपाल अहिरवार के निर्देशन में की गई जिसमे वन परिक्षेत्र किरनापुर सामान्य के वन अमले के रूप में एन.के उके वनपाल, मेहबूब खान वनपाल, आर.एस. चौहान वनपाल, सुरेश निन्हावे वनपाल, तिलकचंद उईके वनरक्षक, मुकेश पढ़े वनरक्षक, चोबेलाल पंद्रे, इकबाल कुरैशी आदि का विशेष योगदान रहा।

Back to top button