Uncategorized

मेढ़की नदी में बहे नक्सली के रिकार्ड ढूंढने में जुटी पुलिस

पखांजूर, बिप्लब कुण्डू: डीव्हीसी सदस्य रमेश का रह चुका गार्ड व उत्तर बस्तर डिवीजन के प्रोटेक्शन टीम का रह चुका सदस्य अनिल उर्फ सुरेश मेढ़की नदी की धार को नहीं झेल पाया और बह गया । माओवादियों ने मदले व सालेपारा मार्ग में पर्चा फेंककर मेढ़की नदी में बहने व शहीद होने की पुष्टि किया है । वहीं कांकेर पुलिस यह पतासाजी करने में जुट गई है कि मृतक नक्सली अंतिम का संस्कार कहाँ किया गया । मृतक वर्तमान में किसकोड़ो एरिया कमेटी के कुवे एरिया कमेटी का सदस्य था । माओवादिओं ने 28 जुलाई से 3 अगस्त तक शहीदी सप्ताह मनाया गया , इसी दौरान मेढ़की नदी में बहने वाला नक्सली अनिल उर्फ सुरेश को शहीद बताते हुए उसके नाम से उत्तर बस्तर डिवीजन कमेटी के द्वारा गोंडी भाषा में मदले से साल्हेपारा मार्ग पर अ फेंके गए पचों में पुष्टि किया ।

गोंडी भाषा में लिखे पर्चे को हिंदी में रूपांतरण करवाया गया जिसमें लिखा है कि एक महत्वपूर्ण काम को सफल बनाकर वापस आने के समय में 12 जुलाई को शाम 6.30 बजे मेढ़की नदी को पार करते समय नदी में बह जाने से कुवे एरिया कमेटी सदस्य अनिल शहीद हो गया । नक्सली अनिल कांकेर जिले के हुर्रापिंजोंडी गांव में जन्म हुआ था । 27 साल की उम्र में परिवार के साथ आमाबेड़ा तहसील के ग्राम मड़ाम में जमीन खरीदकर रहने लगा । तीसरी तक पढ़ाई करने के बाद पढ़ाई छोड़कर खेती बाड़ी का काम करता था । मृतक नक्सली का एक बड़ा और दो छोटे भाई और एक बहन है । वर्ष 2008 में ग्राम ऊपर कामता में जनताना सरकार निर्माण करके उसे मिलीशिया प्लाटून निर्माण किया गया और मिलीशिया में कार्य करने लगा । इस दौरान इस क्षेत्र की जनता को माओवादियों के बारे में जागरूक किया । चार साल मिलीशिया में काम करने के बाद वर्ष 2012 में पूर्णकालिक सदस्य बनाया गया ।

कुवे एरिया में 2014 से था सक्रिय सदस्य:-
माओवादियों के द्वारा फेंके गए पर्चे के अनुसार 2014 में कुवे एरिया में स्थानांतरण किया गया था तथा महत्वपूर्ण काम के लिए समन्वय दल के सदस्य तथा डिप्टी कमाण्डर बनाया गया । वर्ष 2019 के अंत में एरिया कमेटी सदस्य बनाया गया था । राजनीति शिक्षा मिलिट्री प्रशिक्षण प्रस्ताव को गलत होने पर बेझिझक राय को रखता था । वर्ष 2017 में चलाए गए कुवे एरिया विस्तार कमेटी मिटिंग में और वर्ष 2021 में हुई डिविजन प्लानिंग मिटिंग में प्रतिनिधि के रूप में शामिल होकर आंदोलन के समस्या को देखते हुये स्पष्ट रूप से चर्चा कर वर्ष 2022 में चलाए गए कुवे एरिया विस्तार बैठक में पीओआर लिखा गया ।

डीव्हीसी सदस्य का रह चुका है गार्ड :-
पुलिस के रिकार्ड में माओवादी अनिल उर्फ सुरेश उत्तर बस्तर डिवीजन के प्रोटेक्शन टीम का सदस्य रह चुका है और डीव्हीसी सदस्य रमेश उर्फ मुकेश का गार्ड भी रह चुका है ।

पुलिस पतासाजी में जुटी :-
माओवादियों के द्वारा फेंके गए पचों को बड़गाँव पुलिस ने जप्त किया , उसके बाद पुलिस सक्रिय हो गई है । पुलिस नदी में बहने वाले माओवादी अनिल और उसके परिजनों के बारे में पतासाजी करने में जुट गई है । नदी में बहने के बाद शव कितने दिन बाद माओवादियों को मिला और उसका अंतिम संस्कार कब और कहाँ किया गया । पुलिस यह भी आंकड़े खोज रही कि नदी में बहने वाले माओवादी के खिलाफ किस किस थाने में कितने प्रकरण दर्ज है।मृतक का अंतिम संस्कार कब और कहा किया गया उसका भी पतासाजी किया जा रहा है।

Back to top button