Uncategorized

नौ अगस्त को आदिवासी दिवस मनाने के लिए हुई बैठक

पखांजूर, बिप्लब कुण्डू: नौ अगस्त को विश्व आदिवासी दिवस को भव्य तरीके से मनाने हेतु बड़गाँव के बड़ेपारा में स्थित गोंड़वाना भवन में आदिवासी समाज के प्रमुखो ने गुरुवार को बैठक आयोजित कर तैयारीओ का जायजा लिया और विचार विमर्श किया गया।जिसमें बड़गाँव सर्कल के विभिन्न जगह के समाज प्रमुख मौजूद रहे।सर्व आदिवासी समाज बड़गाँव सर्कल अध्यक्ष दुखुराम नरेटी ने बताया कि नौ अगस्त को होने वाले बिश्व आदिवासी दिवस को भव्य तरीके से सम्पन्न करने हेतु बैठक आयोजित की गई थी।इस बार आदिवासी दिवस बड़गाँव में मनाने का निर्णय लिया गया है।जिसके लिए गांव गांव में तैयारियां जोरों से चल रही है। आदिवासियों मूल निवासियों को अपने अधिकारों के लिए लड़ने आवाज उठाने के लिए विश्व आदिवासी दिवस 9 अगस्त को मनाएंगे जल जंगल जमीन अस्मिता अस्तित्व और आजीविका के लिए अंग्रेजों के समय से लेकर आज तक लड़ते आ रहे हैं हमारी मौलिक अधिकारों के लिए दशकों से लड़ते हुए हमारे पूर्वजों ने अपना बलिदान दिया उन तमाम शहीदों को याद करते हुए उनके सपनों को साकार करने के लिए शपथ लेने के लिए दिवस के रूप में मनाएंगे।

हमारे अधिकारों को हासिल करने तथा केंद्र और राज्य सरकार के साथ जुझारू संघर्ष करने की शपथ लेंगे ।आगे कहा कि भारत सरकार एक षड्यंत्र के तहत आदिवासियों को जनगणना में हिंदू धर्म में जोड़ने की योजना बनाई है हिंदुत्व एवं ईसाई ताकतों ने हमें जबरन धर्मांतरण करवा कर हमारे बीच में फूट डालने में लगे हैं हम प्रकृति पूजक है वर्ण व्यवस्था वह किसी धर्म का हिस्सा पहले से भी आज भी नहीं है लेकिन आर एस एस और भाजपा हमें जबरन हिंदू करण करने में लगा हुआ है। आने वाली जनगणना में आदिवासियों को अलग धर्मकोड जोड़ने की मांग उठाने का संकल्प लेने और जनगणना में आने वाली कर्मचारियों का आदिवासी का लाभ लेने का अनुरोध करने की मांग समेत कई मांग शामिल रहेगा। इस दौरान दुखुराम नरेटी,गणेश ध्रुवा,नरेंद्र नेताम,प्रदीप पांडे,गजेंद्र उसेंडी,शम्भू सलाम,जितेंद पोटाई समेत कई लोग मौजूद रहे।

Back to top button