Breaking News

बचेली डीएवी पब्लिक स्कूल में पीजीटी,टीजीटी व अन्य पदों पर नियमो नियमों का हवाला देकर कुछ परीक्षार्थियों को परीक्षा में बैठने से रोका

परीक्षार्थियों ने अनुविभागीय अधिकारी अरुण कुमार सोम से की लिखित में मामले की शिकायत

डीएवी पब्लिक स्कूल बचेली की प्राचार्या चेतना शर्मा ने कहा की हमारी संस्था के नियमो के अनुसार रोका परीक्षार्थियों को

फकरे आलम/बचेली: डीएव्ही स्कूल मैनेजमेंट की अप्रसांगिक नियमो के चलते स्थानीय अभ्यर्थियों को लिखित परीक्षा से वंचित कर दिया गया । दरअसल शुक्रवार को डीएव्ही द्वारा आयोजित विभिन्न विषयों के लिए पीजीटी , टीजीटी एवम अन्य पदों की भर्ती के लिए लिखित परीक्षा का आयोजन किया गया जिसमें क्षेत्र के अलावा दीगर जिलों से भी अभ्यर्थी लिखित परीक्षा देने पहुंचे पर अधिकतर अभ्यर्थियों परीक्षा केंद्र से बाहर सिर्फ इसलिए कर दिया गया क्योंकि उन्होंने इससे पूर्व डीएव्ही मुख्यमंत्री पब्लिक स्कूल के भर्ती परीक्षा में भाग लिया था।

जिसके चलते प्रबंधन द्वारा कई अभ्यर्थियों को डीएव्ही के मुख्य शाखा बचेली किरंन्दुल के स्कूल की परीक्षा से वंचित कर दिया गया।ऐसे में ये सवाल भी उठाए जा रहे है कि क्या ये सिर्फ अपने चहेते अभ्यर्थियों को प्रबंधन द्वारा लाभ पहुंचाने हेतु किया गया है ? इस दौरानपारदर्शिता बनाये रखने शिक्षा विभाग का कोई भी अधिकारी परीक्षा केंद्र में मौजूद नही था । इसकी शिकायत कुछ अभ्यर्थियों ने लिखित रूप से बचेली एसडीएम से की है । जब इस विषय पर पत्रकारों ने डीएव्ही की प्राचार्य व एआरओ चेतना शर्मा से बात की तो उन्होंने बौखलाते हुए कहा कि डीएव्ही की किसी भी ब्रांच में परीक्षा दिया हुआ अभ्यर्थी को एक ही सत्र में दूसरा मौका संस्थान नही देती।

डीएव्ही एक निजी संस्था है जो अपने नियम खुद बनाती है ये नियम दिल्ली हेड ऑफिस से बनते है और उनके द्वारा निर्देशित नियम का पालन हम सभी बिना प्रश्न किये करते है चाहे वो सही हो या गलत आपको अगर कोई बात करनी है तो हमारे रीजनल हेड श्री प्रशांत जी से भिलाई जाकर कर सकते है हमें उनका फोन नंबर देने की भी मनाही है ।

आपको बता दें कि डीएव्ही संस्थान एक मात्र संस्था है जहां इस प्रकार के अनोखे नियम लागू किये जाते है। इससे पूर्व भी प्राचार्यो द्वारा कई बार शिक्षकों के शोषण करने की शिकायत हो चुकी है मुख्य ब्रांच बचेली में पदस्थ प्राचार्य एवं मुख्यमंत्री डीएव्ही पब्लिक स्कूल की एआरओ चेतना शर्मा सहित अन्य स्कूलों के प्रिंसिपल पर भी शिक्षकों को प्रताड़ित करने के आरोप समय समय पर लगते रहे है। विरोध करने पर एक तरफा निर्णय लेकर उन्हें नौकरी से निकाल दिया जाता है जिसके चलते दंतेवाड़ा जिले में संचालित मुख्यमंत्री डीएव्ही पब्लिक स्कूल की हालत खस्ता है डीएव्ही मुख्यमंत्री इंग्लिश मीडियम स्कूलों का अगर सही तरीके से निरीक्षण किया जाए तो भर्ती से लेकर वेतन प्रदाय तक सैकड़ो विसंगतियां पाई जाएंगी ।

प्रशासनिक अधिकारियों के रुचि नही लेने के चलते डीएव्ही संस्था और इसके प्रमुख पद पर आसीन लोगों के मनमानी करने के हौसले बुलंद हो चले है। डॉ चेतना शर्मा , मुख्यमंत्री डीएव्ही पब्लिक स्कूल ,(एआरओ ,सीजी एफ ज़ोन ) – हम केवल डीएव्ही दिल्ली मैनेजमेंट द्वारा जारी नियमो का पालन करते है इससे पूर्व भी इन्ही नियम के तहत भर्तियां हुई है ये नियम क्यों बनाये गए है मुझे नही पता इससे अधिक मैं कुछ नही कह सकती ।

राजेश कर्मा , जिला शिक्षा अधिकारी , दंतेवाड़ा :- मैं कार्यलीन कार्य से राजधानी आया हुआ हूं मामले में जानकारी मीडिया के माध्यम से हुई है परीक्षा में परीक्षार्थियों को बैठने से क्यो रोका गया इसकी जानकारी ली जा रही है। यदि छत्तीसगढ़ शासन के नियम के विपरीत भर्ती प्रक्रिया की जा रही है तो निश्चित तौर पर कार्यवाही की जाएगी।

अरुण कुमार सोम , एसडीएम बचेली – एसडीएम अरुण कुमार सोम-कार्यालय में लिखित शिकायत की गई है मैं अवकाश में हु जो जानकारी प्राप्त हुई है है उसके अनुसार कुछ परीक्षार्थियों को डीएवी स्कूल में हो रही परीक्षा देने से रोका गया है। क्यो रोका गया इसकी जानकारी प्राप्त करने के बाद ही कुछ भी कहना सम्भव हो पायेगा यदि नियम के अनुरूप भर्ती प्रक्रिया नही हो रही है तो निश्चित तौर पर कार्यवाही की जाएगी।

Join Whatsapp Group