हांडा निकालने के नाम से ठगी मामले में दो सहयोगी गिरफ्तार, मुख्य आरोपी फरार

पखांजूर, बिप्लब कुण्डू: दुर्गुकोंदल में 4 लाख कु ठगी के मामले में पुलिस ने बाबा के तो सहयोगियों को गिरफ्तार किया है इसमे नागेश राठौर 23 वर्ष, निवासी नागपुर महाराष्ट्र, दूसरा युवराज गिरी गोस्वामी निवासी बालाघाट मध्यप्रदेश को भानुप्रतापपुर से गिरफ्तार किया है। मुख्य बाबा किशोर राठौर को ढूंढने महाराष्ट्र में लगातार दबिश दिया पर बाबा फरार हो गया है।

चार दिन पहले हरेश जैन दुर्गूकोन्दल बाजारपारा के घर दवाई बेचने आये व्यक्ति के द्वारा एक तांत्रिक को भेजा और इसके बाद तांत्रिक के द्वारा घर मे हांडा दबे होने की जानकारी दी और इसे निकालने के लिए पहले 40 हजार का सामान मंगवाया इसके बाद तांत्रिक किया कर खुद ही घर के अंदर हांडा दबाकर रख दिया और बाद में परिवार के बहु से है हांडा निकलवाया और अंधेरे में इसे खोल कर दिखाया जिससे धुंधला सोने का कलर दिखा जिसे विश्वास हुआ। इसके बाद बाबा ने कहा इसमे और बड़ा हांडा है जिसमे बहुत सोना है इसके लिए सोना डालना पड़ेगा जिससे सोना को रोककर रखेगा। इसके बाद परिवार के लोगों ने घर मे रखे सोना, बेटी दमाद के घर के सोने के जेवरात बाबा को दे दिए बाबा ने दिखने के लिए खोदे वये गड्ढे में डाला पर चतुराई से उसे वापस निकालकर अपने पास रख लिए और वहां से निकल गया कहा 4 लाख की व्यवस्था हो तब बताना।

बाबा के चले जाने के बाद ठगी का एहसास हुआ और बाबा के चेले को पैसा व्यवस्था होने की जानकारी देकर भानुप्रतापपुर में सामग्री लेकर बुलाया और पुलिस की मदद से दो लोगों को गिरफ्तार किया है। मुख्य बाबा अभी भी फरार है। थानां प्रभारी सुशील पटेल ने बताया ठगी मामले में दो गिरफ्तार हो गए है मुख्य तांत्रिक फरार है इसके खिलाफ धारा 420, 120 बी के तहत कार्यवाही कर कोर्ट में पेशबकर जेल भेज दिया गया।

Back to top button