आईएफएससी कोड बदला,रुका पंचायतो का काम,14वे15वे वित्ति की राशि न निकल पाने से पंचायतों का एक करोड़ रुपया से अधिक का भुगतान अटका

बिप्लब कुंडू

पखांजूर। ग्रामीण बैंक की शाखाओं का आईएफएससी कोड बदलने के चलते विकासखंड कोयलीबेड़ा के 85 पंचायतों का विगत एक माह से पंचायतों के खातों से चैदह तथा पन्द्रह वित्त की राशि आहरण नहीं हो पा रहा। इसके चलते पंचायतों का एक करोड़ से अधिक का भुगतान लविंत हो गया है। पुराने भुगतान नहीं मिल पाने के चलते नऐ निमार्ण कार्य भी शुरू नहीं हो पा रहे। साथ ही पैसे नहीं आने से दुकानदार भी अब सरपंच सचिवों के यहा तकादे के लिए पहुंच पैसे के लिए दवाव बना रहे है।

विकासखंड कोयलीबेड़ा में विगत एक माह से चैदह तथा पन्द्रह वित्त राशि का भुगतान नहीं हो पा रहा जिस कारण पंचायतों में निमार्ण कार्य बंद होने को है। पैसे का भुगतान नहीं होने के कारण सरंपच भी नऐ काम करने को तैयार नहीं है ऐसे में पंचायतों में निमार्ण कार्य बंद होने को है। वतर्मान में चैदह तथा पन्द्रह वित्त का 1 करोड़ से अधिक की राशि का भुगतान होना शेष है। इस समस्या का कारण ग्रामीण बैंक की शाखाओं का आईएफएससी कोड बदलना है। विकासखंड कोयलीबेड़ा की 85 पंचायतों के 14 तथा 15 वित्त की आने वाली राशि का खाता कापसी स्थित ग्रामीण बैंक में खुला है। 14 तथा 15 वित्त की आई राशि का सरपंच सचिव द्वारा फाईल पूर्ण करने के बाद वेंडर के खातों में पंचायत के खाते से स्थानांतरण करने का काम जनपद पंचायत द्वारा किया जाता है। इस सिस्टम में बैंक का नया आईएफएससी कोड अपडेट नहीं हो पाया है जिस कारण राशि विगत एक माह से स्थानांतरित नहीं हो पा रही है। इसके पूर्व तक इन बैंक का आईएफएससी कोड एक हुआ करता था पर अब हर बैंक की शाखा को अपना अलग अलग कोड दिया गया है जिस कारण कापसी ग्रामीण बैंक का पुराना कोड  बदल गया है और बैंक द्वारा नया कोड पंचायत के सिस्टमें में अपडेट नहीं किया जा सका है  जिस कारण पंचायत में जमा खाते की राशि निमार्ण कार्य करने वाले वेंडरों के खातें में नहीं जा पा रही। और पंचायतों का एक करोड़ से अधिक का भुगतान अटका हुआ है।

विकासखंड कोयलीबेड़ा के सरपंच संघ के अध्यक्ष राजाराम कोमरा ने बताया की अधिकारियों द्वारा हमेशा पंचायतों को काम करने के लिए दवाव बनाया जाता है पर काम होने के बाद पैसे के लिए परेशान होना पड़ता है। विगत एक माह से पंचायतों द्वारा काम कराया जा चुका है पर पैसे अब तक वैंडरों के खाते में नहीं आने के कारण समान देने वाले काम करने वाले रोज सरपंचों सचिवों के घरों में पहुंच तकादा कर रहे है जिस कारण सभी सरपंच सचिव परेशान है। अधिकारियों को इस संबध में कई बार बताया गया पर अधिकारी बैंक की लापरवाही बता कुछ दिन में ठीक हो जाऐगा कह टरका रहे है। इस समस्या को एक माह से अधिक का समय हो रहा है पर अब तक बैंक द्वारा कोई सुधार नहीं किया गया और पंचायतों के सरपंच सचित परेशान हो रहे है।
इस संबध में जनपद पंचायत कोयलीबेड़ा के मुख्यकायर्पालन अधिकारी आशीष डे ने बताया की कापसी ग्रामीण बैंक का नया आईएसएससी कोड सिस्टम में अपडेट नहीं हो पाने के कारण यह समस्या आई है। इस सबंध में बैंक को जानकारी दे दी गई है बैंक द्वारा 15 जून के पहले इसे अपडेट करने का आश्वासन दिया गया है। अगर बैंक इसे नहीं सुधार पाता तो पंचायतों के खाते अन्य बैंक स्थानांतारित कर दिया जाऐगा।

Back to top button