संघर्ष का महापड़ाव – राज्य की समस्त आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं ने लंबित मांगों को लेकर फिर भरी हुंकार, प्रदेश सरकार के खिलाफ बोला हल्ला…

रायपुर: प्रदेश की आंगनबाड़ी कार्यकर्ताएं लंबे समय से अपनी मांगों को लेकर रोड पर उतर कर आंदोलन कर चुके हैं, चाहे 50 दिन का हो या तीजा के उपवास रखकर कठिनाई भरा आंदोलन करना रहा हो आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं ने ना धूप देखा ना छांव अपनी मांगों को लेकर लगातार अड़ी हुई है | समय-समय पर शासन का ध्यानाकर्षण करने के लिए आंगनबाड़ी महिलाओं ने प्रदर्शन किया किंतु सरकार टस से मस तक नहीं हुई, जिस प्रकार से महंगाई अपने चरम सीमा पर है उस पर ₹6500 अत्यंत ही कम होते हैं जिससे परिवार का भरण पोषण कर पाना बहुत ही मुश्किल हो रहा है |

READ MORE: आंगनबाड़ी कार्यकर्ता व सहायिका संघ का बाज़ार स्थल में एक दिवसीय किया धरना प्रदर्शन

आंगनबाड़ी कार्यकर्ता सहायिका का कहना है कि हम भीषण गर्मी में भी अपना पूरा कार्य ईमानदारी के साथ निर्वहन करने हैं. शासन द्वारा लागू सभी नियमों को ध्यान पूर्वक समझ कर हम उसका पालन कर रहे हैं. साथ ही साथ अन्य सभी विभागों के कार्यों को भी हम कर रहे हैं किंतु सरकार हमारी मांग को लेकर अब तो कुछ भी सकारात्मक रवैया नहीं दिखा रही है |

unibots video ads

READ MORE: आंगनबाड़ी कार्यकर्ता और सहायिकाओं को बड़ी सौगात, हर महीने मिलेगी 15-18000 रुपए सैलरी! राज्य सरकार जल्दले सकती है फैसला

कुपोषण की दर को कम करने के लिए आंगनबाड़ी कार्यकर्ता सहायिका दिन रात पूरी इमानदारी से इस कार्य में जुटी हुई है. इन सबके बावजूद शासन अनदेखा कर रही हैं | आंगनबाड़ी महिलाओं ने कहा हमारी मुखिया से बहुत सारी उम्मीदें हैं लेकिन हमें निराशा ही लगातार मिलती रही है जिसके कारण हम हमारी प्रमुख मांग शासकीय कर्मचारी घोषित करते तक जो जन घोषणा पत्र में वादे किए गए थे. लिखित में कलेक्टर दर उसे तत्काल पूरा किया जाए एवं हमारी जो अन्य मांगे हैं उसको भी जल्द से जल्द पूरा किया जाए | आज हमने प्रदेश की राजधानी रायपुर के धरना स्थल में प्रदर्शन किए हैं यदि हमारी मांगे सरकार नहीं सुनती है तो आने वाले समय में 7 जुलाई से 11 जुलाई तक हम अनिश्चितकालीन धरना प्रदर्शन करेंगे उसके बावजूद भी यदि सरकारें हमारी मांगे पूरा नहीं करते हैं तो प्रदेश की सभी आंगनबाड़ी कार्यकर्ता सहायिका अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चली जाएंगी |

Back to top button