महंगाई का बड़ा झटका ! आरबीआई ने लगाया अनुमान- 2022-23 में बढ़ेगी महंगाई, इतना रहेगा रिटेल इनफ्लेशन, पढ़िए

नई दिल्ली। आरबीआई (RBI) ने बुधवार सुबह अपनी Monetary Policy (मौद्रिक नीति) पेश कर दी। आरबीआई ने रेपो रेट में 0.50 फीसदी बढ़ोतरी की है। यह 4.40 फीसदी से बढ़कर 4.90 फीसदी हो गया है। आरबीआई गवर्नर शक्तिकांत दास ने सुबह 10 बजे Monetary Policy Committee के फैसलों के बारे में विस्तार से बताया। उन्होंने फाइनेंशियल ईयर 2022-23 के लिए इनफ्लेशन के अनुमान के बारे में भी बताया। उन्होंने कहा कि करेंट फाइनेंशियल ईयर में रिटेल इनफ्लेशन 6.7 फीसदी रहने का अनुमान है।

READ MORE : महंगाई को लेकर केंद्रीय मंत्री का बड़ा बयान…अब राज्य सरकार… जानिए क्या कहा…

उन्होंने कहा कि कमोडिटी के भाव बढ़ने से पूरी दुनिया में महंगाई बढ़ रही है। भारत भी इसका अपवाद नहीं है। उन्होंने कहा कि पिछले लगातार 4 महीनों से रिटेल इनफ्लेशन RBI के तय 6 फीसदी के टारगेट से ऊपर बना हुआ है। कमोडिटी की कीमतों में वृद्धि इसकी सबसे बड़ी वजह है। उन्होंने कहा कि महंगाई का जोखिम अब भी बना हुआ है। करेंट फाइनेंशिल ईयर यानी FY 2022-23 में रिटेल इनफ्लेशन 6.7 फीसदी रहने का अनुमान है। चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही (अप्रैल-जून) में रिटेल महंगाई 7.5 फीसदी रह सकती है। दूसरी तिमाही (जुलाई-सितंबर) में रिटेल महंगाई 7.4 फीसदी रह सकती है। Q3 में रिटेल महंगाई का अनुमान 6.2 फीसदी है, जबकि Q4 में रिटेल महंगाई का अनुमान 5.8 फीसदी है।

READ MORE : फूटा महंगाई का बम: 30 रुपया महंगा हुआ पेट्रोल-डीजल, आज से लागू हुई नई कीमत

दास ने कहा कि RBI के अनुमान इस बात पर आधारित हैं कि इस बार मानसून सामान्य रहेगा। यह भी माना गया है कि इस फाइनेंशियल ईयर में क्रूड ऑयल का औसत भाव 105 डॉलर प्रति बैरल रहेगा। RBI गवर्नर ने यह साफ कर दिया कि फिलहाल केंद्रीय बैंक का फोकस तेजी से बढ़ती महंगाई को काबू में करना है। उन्होंने कहा कि रिटेल इनफ्लेशन बढ़ने की सबसे बड़ी वजह खानेपीने की चीजों की कीमतों में आया उछाल है। उन्होंने कहा कि महंगाई को काबू में करने के उपायों को लागू करने के साथ ही इकोनॉमिक ग्रोथ पर उसकी नजर बनी रहेगी।

READ MORE : फिर लगा महंगाई झटका : मई में दूसरी बार बढ़े LPG गैस सिलेंडर के दाम, जानें नई कीमत 

unibots video ads

शक्तिकांत दास ने 4 मई को अचानक रेपो रेट में 0.40 फीसदी वृद्धि कर दी थी। तेजी से बढ़ती महंगाई पर लगाम लगाने के लिए ऐसा किया गया था। मार्च में रिटेल इनफ्लेशन 6.95 फीसदी था। मई में यह बढ़कर 7.79 फीसदी पर पहुंच गया। इसकी सबसे बड़ी वजह क्रूड ऑयल सहति कमोडिटी की कीमतों में आया उछाल है। यूक्रेन क्राइसिस के चलते कमोडिटी की कीमतें तेजी से बढ़ी हैं।

Back to top button