मंकीपॉक्स से सहमी दुनिया, 20 देशों में फैला संक्रमण, जानें क्या है भारत की स्थिति, कितना खतरनाक ये वायरस ? यहां जानें सबकुछ

नई दिल्ली : दुनियाभर में मंकी पॉक्स वायरस का खतरा बढ़ते ही जा रहा है। इसके मामलों में तेजी से बढ़ोतरी देखने को मिल रही है। जहां इससे पहले ये संक्रमण 11 देशों तक सिमित था, वहीं अब इसका दायरा बढ़कर 20 देशों तक जा पहुंचा है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने चेतावनी जारी करते हुए शुक्रवार को कहा कि दुनिया के 20 से ज्यादा देशों से मंकी पॉक्स के करीब 200 मामले आए हैं। हालांकि उन्होंने यह भी कहा कि इस महामारी को नियंत्रित किया जा सकता है।

READ MORE :  मंकीपॉक्स को लेकर भारत सरकार अलर्ट: कभी भी जारी हो सकती है गाइडलाइन, कोरोना के बाद अब नई बीमारी ने बढ़ाई चिंता

संयुक्त राष्ट्र की स्वास्थ्य एजेंसी ने शुक्रवार को कहा कि वर्तमान महामारी कैसे शुरू हुई, इस बारे में कई सवालों के जवाब नहीं थे, लेकिन कुछ भी साबित नहीं करता है कि इस महामारी का कारण वायरस में एक आनुवंशिक परिवर्तन है। डब्ल्यूएचओ महामारी के निदेशक, डॉ सिलवी ब्रायंद ने कहा: “वायरस (जीनोम) का अनुक्रमण करने से पहले यह दर्शाता है कि यह रूप महामारी से प्रभावित महामारी के रूप से अलग नहीं है और यह (महामारी का प्रसार) संभवतः है। यह लोगों की जीवनशैली और परिवर्तन का परिणाम है।  

READ MORE : कोरोना के बाद अब दुनिया पर मंडराया इस वायरस का खतरा, डब्ल्यूएचओ ने किया आगाह, यहां तेजी से फ़ैल रहा संक्रमण 

क्या है मंकीपॉक्स वायरस

रिपोर्ट के मुताबिक मंकीपॉक्स चिकनपॉक्स और स्मॉलपॉक्स की तरह ही एक ओर्थोंपॉक्सवायरस है।मंकीपॉक्स (Monkeypox) पीड़ित व्यक्ति के शरीर से निकले संक्रमित फ्लूइड के संपर्क में आने से फैलता है। खासकर अगर व्यक्ति पीड़ित के अत्यधिक करीब आता है तब इसके फैलने की संभावना सबसे ज्यादा होती है। 

मंकीपॉक्स के लक्षण

शरीर में सूजन

unibots video ads

ऊर्जा की कमी महसूस होना

शरीर के लाल चकत्ते का घाव बन जाना

मांसपेशियों में असहनीय दर्द

ठंड लगने की शिकायत

निमोनिया हो जाना

तेज बुखार आना

READ MORE : OMG : मंकीपॉक्स वायरस पर शोधकर्ताओं ने किया चौकाने वाला खुलासा,जानकार आपके भी उड़ जाएंगे होश

क्या है भारत की स्थिति ?

भारत की बात की जाए तो अभी इस संक्रमण का एक भी मामला सामने नहीं आया है। भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (ICMR) ने कहा है कि अन्य देशों में फैल रहे वायरस को देखते हुए भारत इसका सामना करने के लिए तैयार है। फ़िलहाल देश में इस बीमारी का अभी कोई केस नहीं मिला है। आईसीएमआर की वैज्ञानिक डॉक्टर अपर्णा मुखर्जी ने कहा कि इस संक्रमण का सामना करने के लिए भारत तैयार है। यह संक्रामक रोग यूरोप, अमेरिका एवं अन्य सहित नॉन एंडेमिक देशों में तेजी से फैल रहा है। जहां तक भारत की बात है तो अभी इस बीमारी का कोई मामला देश में नहीं मिला है। 

Back to top button