Special Story : छत्तीसगढ़ राज्यसभा चुनाव: एक अनार सौ बीमार, ये चेहरे उम्मीदवार बनने की होड़ में..जानें किसे मिलेगा मौका…

rajyasabha elction
rajyasabha elction

रायपुर: प्रदेश में राज्यसभा चुनाव को लेकर उम्मीदवारों की होड़ लग गई है। सिर्फ दो सीट के लिए दर्जनों उम्मीदवारों ने ताल ठोंक दी है। राज्यसभा की दौड़ शामिल होने कई उम्मीदवारों ने सीधे कांग्रेस की राष्ट्रीय अध्यक्ष सोनिया गांधी को पत्र लिखा है। हालांकि अंतिम निर्णय मुख्यमंत्री भूपेश की राय को ही आलाकमान अहमियत देगा। आलाकमान 31 मई के पहले ही नामों का ऐलान कर सकते हैं। क्योंकि 31 मई तारीख नामांकन का आखिरी दिन है।

इन उम्मीदवारों ने सोनिया गांधी को लिखा पत्र

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार इंडियन मेडिकल एसोसिएशन के रायपुर ब्रांच ने कांग्रेस चिकित्सा प्रकोष्ठ के अध्यक्ष डॉ. राकेश गुप्ता को राज्यसभा सीट देने के लिए कांग्रेस की राष्ट्रीय अध्यक्ष सोनिया गांधी को पत्र लिखा है। इससे पहले पूर्व सांसद पीआर खुंटे ने पिछले सप्ताह सोनिया गांधी को एक पत्र लिखकर राज्य सभा का टिकट मांगा।

unibots video ads

अनुसूचित जाति से राज्यसभा में भेजने की मांग

खुंटे ने लिखा कि कांग्रेस ने अभी तक अनुसूचित जनजाति, अन्य पिछड़ा वर्ग, सामान्य वर्ग और महिला वर्ग से लोगों को राज्यसभा भेजा है। इसलिए इस बार राज्य सभा जाने का हक अनुसूचित जाति का बनता है। ऐसे में राज्यसभा जाने का पहला अधिकार उनका बनता है।

अगर कांग्रेस इस वर्ग से उम्मीदवार घोषित करती है तो प्रदेश के अनुसूचित जाति वर्ग के 55 लाख मतदाताओं का प्रतिनिधित्व मिलेगा। इस पत्र में खुंटे ने यहां तक कह दिया था कि पिछले 22 सालों से वे विधानसभा, लोकसभा और राज्यसभा का टिकट मांंगते रहे हैं। पार्टी ने चुनाव लड़ने का मौका ही नहीं दिया।

इस बीच राजेंद्र पप्पू बंजारे ने भी सोनिया गांधी को एक पत्र लिखा है। इसमें उन्होंने कहा है, सत्ता और संगठन में 50% मौका युवाओं को दिए जाने के फॉमुर्ले के तहत वे राज्यसभा के मजबूत दावेदार हैं। छत्तीसगढ़ के सतनामी समाज संगठन में रायपुर ग्रामीण जिला अध्यक्ष से लेकर प्रदेश पदाधिकारी तक के पदों पर काम किया है।उन्होंने इस पत्र की प्रतिलिपि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल, प्रदेश प्रभारी पीएल पुनिया, चंदन यादव, सप्तगिरी शंकर उलका, प्रदेश अध्यक्ष मोहन मरकाम तक को भेजी है।

-इन नामों पर चर्चा

राज्यसभा चुनाव के लिए लिए कई उम्मीदवारों ताल ठोंक दी है। इस लिस्ट में दिलचस्प बात ये है कि कांग्रेस संगठन में वरिष्ठ नेताओं के बीच अभी राज्यसभा के लिए दर्जन भर उम्मीदवारों के नामों की चर्चा शुरू हो गई है। इसमें अनुसूचित जाति वर्ग से सतनामी समाज के धर्मगुरु बालदास, मंत्री शिव डहरिया की पत्नी शकुन डहरिया और पीआर खुंंटे का नाम है। पिछड़ा वर्ग से मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के सलाहकार विनोद वर्मा, महाधिवक्ता सतीश चंद्र वर्मा, पूर्व विधायक लेखराम साहू, खनिज विकास निगम के अध्यक्ष गिरीश देवांगन और महिला आयोग की अध्यक्ष डॉ. किरणमयी नायक का नाम है।

वहीं सामान्य वर्ग से मुख्यमंत्री के संसदीय सलाहकार और कांग्रेस के राष्ट्रीय सचिव राजेश तिवारी, डॉ. राकेश गुप्ता, संचार विभाग के अध्यक्ष सुशील आनंद शुक्ला, पाठ्य पुस्तक निगम के अध्यक्ष शैलेश नितिन त्रिवेदी और खादी एवं ग्रामोद्योग बोर्ड के अध्यक्ष राजेंद्र तिवारी का नाम आ रहा है। हालांकि आलाकमान से कोई भी फैसला अभी नहीं आया है। राजनीतिक गलियारों से खबर है कि कांग्रेस 30 मई को ही उम्मीवारों के नामों का ऐलान करेंगे।

इधर मोहन मरकाम दिल्ली में…

जानकारी के अनुसार कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष मोहन मरकाम दिल्ली में डेरा डाले हुए हैं। वहीं केंद्रीय चुनाव समिति की बैठक शामिल होंगे। बैठक के बाद ही चुनाव के समीकरणों को देखते हुए उम्मीदवारी पर फैसला लिया जाएगा। 30 मई तक उम्मीदवारों के नामों का फैसला हो जाएगा।

READ MORE: प्रियंका गांधी के साथ हुई अभद्रता को लेकर CM BHUPESH ने कही ये बड़ी बात, देखें VIDEO

Back to top button