जिले में एक ही दिन में 1284 गर्भवतियों ने करवाया सम्पूर्ण स्वास्थ्य जांच

कवर्धा। कतारबद्ध तरीके से कूलर की ठंडी हवा में बैठकर अपनी बारी का इंतजार व बीच-बीच में साफ पानी के साथ बिस्किट के पैकेट की सर्विस। यह दृश्य आज जिले के उन सभी स्वास्थ्य केंद्रों का था जहां पीएम सुरक्षित मातृत्व अभियान चलाया गया। गर्भवतियों को उनके ही नजदीकी स्वास्थ्य केंद्रों में स्त्री रोग विशेषज्ञों की सेवा देते हुए हर माह प्रॉपर फॉलो अप कराने व गर्भावस्था में सम्पूर्ण जांच व उपचार का लाभ देने के लिए शासन द्वारा प्रत्येक माह के 9 तारीख को प्रधानमंत्री सुरक्षित मातृत्व अभियान चलाया जा रहा है । शिशु व मातृ मृत्युदर घटाने के उद्देश्य से चलाए जा रहे इस अभियान को कोविड काल के बाद जिले में न केवल सुचारू किया गया बल्कि उम्दा सेवा देकर आज कुल 1284 गर्भवतियों का जांच व उपचार भी किया गया है।

उक्त सेवाओं के सम्बंध में मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ सुजॉय मुखर्जी ने बताया कि जिले में पीएमएसएम अभियान का लाभ अधिक से अधिक सम्बन्धितों को दिलाने के लिए निजी स्त्री रोग विशेषज्ञों से बात करके उनकी सेवा के लिए राजी किया गया।

आज 10 केंद्रों में जारी रही सेवा
सीएमएचओ डॉ मुखर्जी ने बताया कि आज जिले के 10 स्वास्थ्य केंद्रों में पीएमएसएम अभियान जारी रही। इसमें विशेषज्ञ चिकित्सकों ने अपनी सेवाएं दी व 1284 गर्भवतियों का जांच करके गर्भकाल में आवश्यक देखरेख व खानपान के बारे में सलाह दिया गया।

होने लगा है उच्च जोखिम प्रसव वाले प्रकरणों का चिन्हांकन

डॉ मुखर्जी कहते हैं कि हम जिले में माहवारी सर्विलेंस कराकर प्रसव की अवस्था का जल्द से जल्द पता लगाकर गर्भवतियों का पंजीयन करवा रहे हैं। इसके पश्चात मितानिन, ए एन एम व जमीनी स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं के माध्यम से इनका लगातार मॉनिटरिंग की जा रही है। हाई ब्लड प्रेशर, 6 ग्राम या इससे कम एचबी लेबल होने, गम्भीर बीमारी होने, आकस्मिक गर्भपात की समस्या झेल चुकी महिलाओं का फिर से गर्भधारण करने, शरीर में सूजन या अन्य इसी तरह के लक्षण होने की स्थिति में उच्च जोखिम का पता लगाया जाता है , जिसके आधार पर प्रसव की पद्धति का अनुमान लगाकर प्रसव डेट से कुछ दिन पहले ही सीजेरियन के लिए भर्ती कराया जाता है ताकि जच्चा -बच्चा को सुरक्षित किया जा सके। डॉ मुखर्जी ने बताया कि आज 217 हाई रिस्क प्रेग्नेंसी का चिन्हांकन किया गया व 268 को सोनोग्राफी की सलाह दिया गया। इनका निःशुल्क सोनोग्राफी जिला अस्पताल व चिन्हांकित निजी अस्पतालों में करवाया जाता है।

तत्काल दी जाती है सेवा

आज पीएम सुरक्षित मातृत्व अभियान के तहत सभी स्वास्थ्य केंद्रों में जांच व उपचार कार्य सुचारू था, इसी बीच एक 9 माह की गर्भवती पोड़ी स्वास्थ्य केंद्र में जांच के लिए । उक्त केंद्र में सेवारत महिला डॉक्टर ने जांच किया तो पाया कि बच्चे की धड़कन सुनाई नही आ रही है। उक्त गर्भवती को तत्काल जिला 108 बुलाकर जिला अस्पताल भेजा गया, जहां महिला चिकित्सकों की देखरेख में भर्ती है।

कलेक्टर ने दी सीएमएचओ समेत सभी चिकित्सकों को शुभकामनाएं,सेवा इसी प्रकार अनवरत जारी रखने की जताई उम्मीद

जिला कलेक्टर रमेश कुमार शर्मा ने आज पीएम सुरक्षित मातृत्व अभियान के परिणाम के बाद मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ सुजॉय मुखर्जी व उनकी टीम समेत डॉ पुष्पा खरसन, डॉ रानी संगीता जैन, डॉ योगिता चन्द्रवंशी, डॉ हीना अहमद, डॉ विमला बक्शी, डॉ निसिका माटा, डॉ अनामिका पटेल, डॉ सुशीला किंडो, डॉ पुरुषोत्तम राजपूत व डॉ श्रद्धा मिश्रा को शुभकामनाएं दी जिन्होंने आज अपनी सेवा देकर गर्भवतियों का जांच किया। उन्होंने इस सेवा को इसी व्यवस्था के साथ आगे भी अनवरत जारी रखने की उम्मीद पूरी टीम से जताई है।

Back to top button