ब्रैडमैन के बाद सबसे बेहतरीन टेस्ट औसत है इस Batsman का, आज है जन्मदिन

स्पोर्ट्स | टेस्ट क्रिकेट (Cricket) में डेब्यू मैच में शतक मारना आम बात तो नहीं है, लेकिन ऐसा कई दफा हो चुका है. क्रिकेट (Cricket) इतिहास को चमकाने वाले कई दिग्गज और कई गुमनाम हो चुके चेहरों के नाम टेस्ट डेब्यू पर शतक है. लेकिन कम ही ऐसे बल्लेबाज हैं, जिन्होंने संन्यास की उम्र के करीब आकर टेस्ट डेब्यू किया हो और सीधे शतक से करियर का आगाज किया हो. ऑस्ट्रेलिया (Australia) के पूर्व बल्लेबाज एडम वोग्स (Adam Voges) का नाम इस लिस्ट में सबसे ऊपर है. दाएं हाथ के मिडिल ऑर्डर के बल्लेबाज रहे वोग्स ने 35 साल की उम्र में ऑस्ट्रेलिया के लिए अपना टेस्ट डेब्यू किया और शतक के साथ शानदार आगाज किया. वोग्स का नाम ऑस्ट्रेलिया समेत विश्व क्रिकेट (Cricket) के इतिहास में कुछ खास उपलब्धियों के लिए दर्ज है.

पूर्व ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाज एडम वोग्स का आज जन्मदिन है. वोग्स का जन्म 4 अक्टूबर 1979 को पर्थ में हुआ था. वोग्स ने वेस्टर्न ऑस्ट्रेलिया के लिए अपने घरेलू करियर की शुरुआत की थी. लेकिन ऑस्ट्रेलियाई टीम में आने में उन्हें वक्त लगा. वोग्स ने फरवरी 2007 में ऑस्ट्रेलिया के लिए वनडे में डेब्यू किया. उसी साल दिसंबर में उन्होंने टी20 डेब्यू भी किया. इसके बाद उन्होंने इस फॉर्मेट में ऑस्ट्रेलिया के लिए अगले 6 साल तक कई मैच खेले, लेकिन कभी भी निरंतर और नियमित मौके उन्हें नहीं मिल सके.

35 की उम्र में डेब्यू कर ठोका शतक

हालांकि, टेस्ट टीम में जगह बनाने के लिए उन्हें लंबा इंतजार करना पड़ा. घरेलू क्रिकेट में लगातार रनों का अंबार लगाने और टेस्ट टीम में अच्छे बल्लेबाजों की कमी के कारण आखिर 2015 में उन्हें टेस्ट टीम से बुलावा आया. जनवरी 2015 में वोग्स ने वेस्टइंडीज के खिलाफ पहले टेस्ट में अपना डेब्यू किया. उस वक्त उनकी उम्र 35 साल की थी. इस उम्र में या इससे ज्यादा उम्र में कई खिलाड़ियों ने डेब्यू किया था, लेकिन वोग्स ने अपने डेब्यू में शतक जमाकर रिकॉर्ड कायम कर दिया. वोग्स ने मैच में अपनी पहली पारी में ही 130 रनों की शतकीय पारी खेली और इस तरह सबसे अधिक उम्र में टेस्ट डेब्यू पर शतक जमाने का विश्व रिकॉर्ड अपने नाम किया.

दो महीने में लगाया रनों का अंबार

हालांकि, अगले कुछ मैचों में उन्होंने दो अर्धशतक जमाए, लेकिन बड़ी पारी नहीं खेल पाए. फिर आया वो वक्त जहां उन्होंने रनों की बारिश कर दी. नवंबर 2015 में न्यूजीलैंड के खिलाफ पर्थ टेस्ट में उन्होंने 119 रनों की पारी खेली. एक महीने बाद होबार्ट टेस्ट में वेस्टइंडीज के खिलाफ पहला दोहरा शतक जमाते हुए 269 रन (नाबाद) बनाए. फिर मेलबर्न में अगले ही टेस्ट में भी 106 रन (नाबाद) जड़े. वेलिंग्टन में अगले टेस्ट में फिर दोहरा शतक ठोकते हुए 239 रन उड़ाए. रनों का ऐसा ढेर लगाने के बाद वह अगले कुछ टेस्ट मैचों में कोई भी बड़ी पारी नहीं खेल पाए और करीब डेढ़ साल में उनका टेस्ट करियर खत्म हो गया.

ब्रैडमैन के बाद सबसे बेहतरीन टेस्ट औसत

वोग्स ने अपने करियर में सिर्फ 20 टेस्ट मैच खेले, लेकिन इस दौरान उन्होंने एक बड़ी उपलब्धि हासिल कर ली. 20 मैचों की 31 पारियों में वोग्स ने 1485 रन बनाए, जिसमें 5 शतक और 4 अर्धशतक शामिल हैं. उनका करियर औसत 61.87 का रहा, जो टेस्ट क्रिकेट के इतिहास में महान बल्लेबाज सर डॉन ब्रैडमैन के बाद दूसरे सबसे ज्यादा है. वनडे और टी20 में भी उन्हें ज्यादा मौके नहीं मिले, लेकिन उनका रिकॉर्ड यहां भी अच्छा है. 31 वनडे मैचों में उन्होंने 45.78 के औसत से 870 रन बनाए, जिसमें 1 शतक और 4 अर्धशतक शामिल हैं, जबकि 7 टी20 मैचों में 1 अर्धशतक की मदद से 139 रन बनाए.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button