निगम सफाई घोटाला : गैरहाजिर सफाई कामगारों को लाखों का भुगतान, ठेकेदारों से होगी वसूली की कार्रवाई

सफाई कामगारों की जांच का मुद्दा गरमाया

रायपुर। नगर निगम में इन दिनों गैरहाजिर सफाई कामगारों की जांच का मुद्दा गरमाया हुआ है। दरअसल, कुछ दिनों पहले मामला सामने आया था कि वार्ड में तैनात सफाई कर्मचारी गैरहाजिर है। फिर जांच में सामने आई कि 70 वार्डों में करीब 29 सौ सफाई कामगारों में केवल 25 से 30 फीसदी सफाई कामगार ही रोज वार्ड में सफाई कार्य करने जाते हैं, जबकि ठेकेदार शत-प्रतिशत उपस्थिति लगाकर निगम से हर महीने लाखों रुपये बिल का भुगतान कर देते हैं। निगम की लापरवाही तो देखों, जिम्मेदार अधिकारी बिना जांच-पड़ताल किए बगैर भुगतान कर देते थे।

स्वास्थ्य विभाग के अध्यक्ष नागभूषण राव अब पूरे मामले की जांच में जुटे हुए हैं। अब जिम्मेदार ठेकेदारों को ब्लैक लिस्टेड कर उनसे पैसे वसूलने की तैयारी की जाएगी।

कहां कितने कर्मचारी गायब….

निगम अधिकारियों द्वारा आठ वार्डों में जांच करने पर औसत 350 कर्मचारियों की रजिस्टर में हाजिरी दिखाया गया था लेकिन मौके पर 117 कर्मचारी ही काम करते मिले, यानि 34 फीसदी सफाईकर्मी गायब थे।

ऐसे ही वार्ड क्रमांक सात में 50 में से 24 सफाई कर्मचारी गायब

वार्ड क्रमांक नौ में 40 में से 24 कर्मचारी

वार्ड क्रमांक आठ में 36 में से 25 सफाई कर्मचारी

बीएसयूपी कचना में 15 में से 12 सफाई कर्मचारी ही उपस्थित मिले थे।

70 वार्डों में 29 सौ सफाई कर्मियों की तैनाती और जांच में करीब एक हजार कर्मचारियोंं के रोज गायब होने का मामला सामने आया।

ऐसे शुरू हुई जांच….

पिछले दिनों हुए कुछ घंटे की मूसलाधार बारिश से पूरा शहर जलमग्न होने पर निगम की व्यवस्था की पोल खुली तब स्वास्थ्य अमला जागा और वार्डों की सफाई व्यवस्था की जांच शुरू की। जांच के दौरान ही सफाई घोटाला सामने आया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button