इन यूजर्स को नहीं मिलेगी नई सिम, जानिये क्या है वजह

इंडिया | आज कल के दैनिक जीवन में mobile एक ऐसा उपकरण है जिसका उपयोग हर एक आम नागरिक कर रहा है. बच्चे हो या बड़े सभी के हाथ में mobile जरुर होता है. mobile पर कॉल करने, इन्टरनेट यूज़ करने से लेकर सभी जरुरी चीजों के लिए एक चीज़ की आवश्यकता होती है वो है सिम कार्ड. मोबाइल सिम के जरिए बढ़ते फ्रॉड को रोकने के लिए केंद्र सरकार ने एक महत्वपूर्ण कदम उठाया है. सरकार ने नये सिम खरीदने के नियमों में बदलाव किए हैं. दूरसंचार विभाग के मुताबिक अब नया सिम खरीदने के लिए कस्टमर्स को किसी दुकान पर जाकर फिजिकली फॉर्म नहीं भरना पड़ेगा. अब इसके लिए डिजिटल फॉर्म की जरूरत होगी.

READ MORE:   स्मार्ट Cylinder : पारदर्शी और हल्के वजन के साथ-साथ जानिए इसके फायदे

सरकार ने मोबाइल नंबर को प्रीपेड को पोस्टपेड या फिर पोस्टपेड को प्रीपेड में ट्रांसफर करने के लिए भी फिजिकल फॉर्म भरने की व्यवस्था को भी खत्म कर दिया है. केंद्रीय कैबिनेट ने इससे जुड़े प्रस्‍ताव को हरी झंडी दे दी है. कुछ दिन पहले ही दूरसंचार विभाग ने KYC के नियम भी बदले थे.

यूजर्स जिन्हें नहीं मिल पायेगी नयी सिम

टेलीकॉम डिपार्टमेंट के नए नियमों के मुताबिक अब कंपनी 18 साल से कम उम्र के यूजर्स को सिम कार्ड नहीं बेच पाएंगी. इसके अलावा अगर कोई शख्स मानसिक रूप से बीमार है तो ऐसे व्यक्ति को भी नया सिम कार्ड जारी नहीं किया जा सकेगा. इन नियमों का उल्लंघन करते हुए अगर ऐसे शख्स को सिम बेची जाती है तो उस टेलीकॉम कंपनी को दोषी माना जाएगा, जिसने सिम बेचा है.

वहीं दूरसंचार विभाग के नए रूल्स के मुताबिक नए सिम कार्ड के लिए कस्टमर्स को कोई दस्तावेज जमा नहीं करना होगा. यही नहीं पोस्टपेड नंबर को प्रीपेड और प्रीपेड को पोस्‍टपेड में ट्रांसफर करने के लिए भी किसी भी तरह के फॉर्म भरने की जरूरत नहीं होगी. इसके लिए डिजिटल KYC को वैलिड माना जाएगा. यूजर्स जिस भी टेलीकॉम कंपनी की सिम यूज करते हैं उसके ऐप की मदद से KYC कर सकेंगे. इसके लिए यूजर्स को एक रुपये का पेमेंट करना होगा.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button