2 October 2021: गांधी जयंती पर जानिए उनके अनमोल विचार

महात्मा गांधी: आज वह दिन है जब हमारे देश में बापू का जन्म हुआ था और हमारा देश उज्जवल भविष्य की ओर बढ़ था। जी हां, सन 1869 को गुजरात के पोरबंदर में 2 अक्टूबर को इस अहिंसावादी पुरूष का जन्म हुआ। महात्मा गांधी अहिंसा और सत्य के पुजारी थे इसलिए उन्होंने हमेशा ही इसी पर अपने विचार विमर्श किये और पूरी दुनिया में इसी राह में चलने का मार्गदर्शन करते रहे, जो आज तक चलता आ रहा है। बता दें, आज उनका 152वीं जयंती है। आज का दिन गांधी जयंती के रूप में मनाया जाता है। साथ ही, आज ही के दिन अंतरराष्ट्रीय अहिंसा दिवस भी मनाया जाता है।

संयुक्त राष्ट्र ने 15 जून 2007 को महात्मा गांधी के सम्मान में दो अक्टूबर को अंतरराष्ट्रीय अहिंसा दिवस के रूप में मनाने का ऐलान किया जिससे अब गांधी जयंती को दुनिया के अन्य देश अहिंसा दिवस के रूप में मनाई जा रही है। महात्मा गांधी ने अपने जीवन भर न सिर्फ अहिंसा की लड़ाई लड़ी बल्कि छुआछूत, जाति प्रथा व सामाजिक भेदभाव के खिलाफ भी संघर्ष करते रहे। दुनिया को उनके योगदान को याद करते हुए हम सभी उनके बड़ी ही श्रद्धा भाव से याद करते हैं। गांधी जयंती के दिन महात्मा गांधी के अनमोल विचारों को शेयर करें। महात्मा गांधी के अनमोल और प्रेरक विचार किसी भी व्यक्ति का जीवन बदल सकते हैं।

महात्मा गांधी के अनमोल विचार-
-काम की अधिकता नहीं, अनियमितता आदमी को मार डालती है।
-हम जिसकी पूजा करते हैं, उसी के समान हो जाते हैं।
-प्रेम की शक्ति दंड की शक्ति से हजार गुनी प्रभावशाली और स्थायी होती है।
जब तक गलती करने की स्वतंत्रता ना हो, तब तक स्वतंत्रता का कोई अर्थ नहीं है।
–जो चाहे वह अपनी अंतरात्मा की आवाज सुन सकता है, वह सबके भीतर है।
पाप से घृणा करो पर पापी से नहीं, क्षमादान बहुत मूल्यवान चीज है।
– स्वयं को जानने का सर्वश्रेष्ठ तरीका है खुद को औरों की सेवा में लगा देना।
आप तब तक यह नहीं समझ पाते कि आपके लिए कौन महत्वपूर्ण है, जब तक आप उन्हें वास्तव में खो नहीं देते।
-शांति का मार्ग सत्य का मार्ग है, सत्यता, शांतिमयता से भी अधिक महत्वपूर्ण है, वस्तुतः झूठ हिंसा का जनक है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button