चाचा और भतीजे की लड़ाई में बंगला हो गया फ्रीज

नईदिल्ली। चाचा पशुपतिनाथ पारस और भतीजे चिराग पासवान की आपसी खींचतान में लोकजनशक्ति पार्टी (लोजपा) का चुनाव चिह्न बंगला फ्रीज हो गया है। चुनाव आयोग ने यह फैसला किया गया।
चुनाव आयोग (Election Commissions) ने कहा है कि अगली सुनवाई 4 अक्टूबर को होगी। तब इस चुनाव चिह्न का इस्तेमाल दोनों में कोई नहीं कर पाएगा। चुनाव आयोग ने दोनों से कहा है कि बंगला चुनाव चिह्न को लेकर दोनों ही गुटों को पास जो भी दस्तावेज हैं उसे चुनाव आयोग के पास जमा किया जाए ताकी इस पर कोई फैसला लिया जा सके। बतादें कि लोजपा प्रमुख रामविलास पासवान की मृत्यु के बाद पार्टी दो धड़ों में बंट गई है और दोनों ही धड़े लोजपा के चुनाव चिह्न यानी बंगला पर अपना-अपना दावा कर रहे हैं। एक धड़ा रामविलास पासवान के बेटे चिराग पासवान के पास है तो दूसरा धड़ा उनके भाई पशुपतिनाथ पारस के साथ।  पशुपतिनाथ ने जब मोदी कैबिनेट में मंत्री पद के रूप में शपथ ली थी, तब चिराग पासवान ने कहा था कि पार्टी ने जब पशुपतिनाथ को निष्कासित कर दिया है तो उन्हें मंत्री पद की शपथ क्यों दिलाई गई।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button