करोड़ों रुपए के कर्ज तले दबे Air India को टाटा समूह ने ख़रीदा

टाटा संस ने एयर इंडिया की जीत ली बोली

इंडिया | एयर इंडिया (Air India) को खरीदार मिल गया है. टाटा संस ने एयर इंडिया की बोली जीत ली है. इसकी औपचारिक घोषणा होनी बाकी है. सिविल एविएशन मिनिस्ट्री के आधिकारिक सूत्रों के अनुसार एयर इंडिया (Air India) की बिक्री के लिए लगाई गई दोनों बोलियों में से सरकार ने टाटा ग्रुप को चुना है. टाटा ग्रुप और स्पाइसजेट के चेयरमैन अजय सिंह ने एअर इंडिया (Air India) को खरीदने के लिए आखिरी बोली लगाई थी.

एअर इंडिया (Air India) को 1932 में टाटा ग्रुप ने ही शुरू किया था. तब टाटा समूह के जे.आर.डी. टाटा इसके फाउंडर थे. उस समय एअर इंडिया (Air India) का नाम टाटा एअर सर्विस रखा गया था. 1938 तक कंपनी ने अपनी घरेलू उड़ानें शुरू कर दी थीं. दूसरे विश्व युद्ध के बाद इसे सरकारी कंपनी बना दिया गया. आजादी के बाद सरकार ने इसमें 49% हिस्सेदारी खरीदी.

साल 2007 में इंडियन एयरलाइंस में विलय के बाद से एअर इंडिया कभी नेट प्रॉफिट में नहीं रही है. एअर इंडिया में मार्च 2021 में खत्म तिमाही में लगभग 10,000 करोड़ रुपए का घाटा होने की आशंका जताई गई. कंपनी पर 31 मार्च 2019 तक कुल 60,074 करोड़ रुपए का कर्ज था. लेकिन अब टाटा संस को इसमें से 23,286.5 करोड़ रुपए के कर्ज का बोझ उठाना होगा.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button