डॉ. अपाला मिश्रा : जिन्होंने UPSC परीक्षा के इंटरव्यू राउंड में हासिल किया सबसे ज्यादा अंक, बनाया रिकॉर्ड  

करियर | गाजियाबाद की रहने वाली डॉ. अपाला मिश्रा (Dr. Apala Mishra) पिछले कुछ दिनों में घर-घर में पहचान बन गई हैं. यूपीएससी (upsc) परीक्षा में 9वीं रैंक हासिल करने वाली अपाला (Dr. Apala Mishra) ने एक बार फिर साबित कर दिया है कि आत्मविश्वास के दम पर आप चाहें तो पूरी दुनिया को जीत सकते हैं. सिविल सेवा परीक्षा में अपाला ने रिकार्ड बनाया है. भले ही उन्हें 9वीं रैंक मिली हो लेकिन उन्हें इंटरव्यू में सबसे ज्यादा अंक मिले हैं. यूपीएससी सिविल सेवा परीक्षा के इंटरव्यू में अब तक सबसे ज्यादा 212 अंक हासिल करने का रिकॉर्ड रहा है. लेकिन, डॉ. अपाला ने इस रिकॉर्ड को तोड़ा और इंटरव्यू  राउंड में 215 अंक हासिल कर एक नया रिकॉर्ड बना डाला.
READ MOREPM MODI ने राजस्थान को दिया हेल्थ कार्ड और 4 मेडिकल कॉलेजों की सौगात 

डॉ अपाला (Dr. Apala Mishra) ने कहा कि 40 मिनट के इंटरव्यू राउंड में उन्होंने अलग-अलग तरह के लगभग हर सवाल का जवाब दिया. वह कहती हैं कि इंटरव्यू का दौर शुरू होने से पहले मैं थोड़ा नर्वस था, लेकिन मैंने अपने आत्मविश्वास को एक विनिंग टूल के रूप में इस्तेमाल कर इंटरव्यू दिया. अपाला ने आगे कहा कि इंटरव्यू राउंड महत्वपूर्ण है क्योंकि यह आपके व्यक्तित्व कौशल के साथ-साथ प्रेजेंटेशन को भी परखता है.

READ MORE : युवाओं के लिए सुनहरा अवसर, स्वास्थ्य विभाग ने निकाला JOB के लिए 1715 पद

अपाला की मां अल्पना मिश्रा (Dr. Apala Mishra) ने कहा कि एक साल पहले उन्होंने अपनी बेटी के कमरे में “I will be under 50″ नाम का एक पोस्टर लगाया था. अपने लक्ष्य के प्रति दृढ़ निश्चयी रहने के लिए उन्होंने इस पोस्टर को दिन रात आंखों के सामने रखा. इसके अलावा अपाला के पिता अमिताभ मिश्रा, जो सेना में कर्नल हैं, बताते हैं कि 8 से 10 घंटे पढ़ाई करने के बाद वह रोजाना करीब 30 से 40 मिनट तक अपाला के साथ टेबल टेनिस खेलते थे, जिससे पढ़ाई का प्रेशर कम किया जा सके.

इंटरव्यू के लिए दिए ये टिप्स

अपाला (Dr. Apala Mishra) कहती हैं कि नंबरिंग बुद्धिमानी से करें. घबराए मत, जो तैयार किया है उस पर विश्वास रखें. वह कहती हैं कि जैसा कि उनके पिता सेना में थे, इसलिए उन्हें इसके लिए बहुत जोश के साथ तैयारी करनी पड़ी. वह कई घंटों तक अपने पिता से सेना के बारे में जानकारी लेती थी और उससे जुड़ी रहती थी. इसके अलावा, उन्हें अपनी मां अल्पना मिश्रा से भी साहित्य सीखने में मदद मिली, जो एक हिंदी कहानीकार होने के साथ-साथ डीयू में हिंदी की प्रोफेसर भी हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button