दांत बता देते है आपकी health के बारे में, इन संकेतों से लगा सकते है बीमारी का पता

लाइफस्टाइल | हेल्थ की जानकारी लेने के लिए कई टेस्ट किए जाते हैं। लेकिन क्या कभी आपने सोचा है कि आपके दांत (teeth) भी आपकी बॉडी का हाल बता सकते हैं। जी हां। ऐसा होता है लेकिन कम ही लोगों को इस बारे में जानकारी है। इंसान के दांत (teeth) सिर्फ चबाने के काम नहीं आते हैं, बल्कि ये एक इंडिकेटर भी हैं जो बताते हैं कि आपकी बॉडी में कुछ गड़बड़ तो नहीं चल रहा है। आप किसी बीमारी के शिकार तो नहीं होने वाले हैं। इतना ही नहीं, दांत (teeth) बताते हैं कि आपको किडनी की दिक्कत तो नहीं। आपको हड्डियों से जुड़ी कोई बीमारी तो नहीं। लेकिन ये सब जानने के लिए आपको पता होना चाहिए कि दांतों (teeth) के संकेत को कैसे डिकोड करें।

अगर आप अपने मुंह के स्वास्थ्य पर ध्यान रखे और किसी भी बदलाव को नोटिस करें तो ये आपको आपके हेल्थ की जानकारी देते हैं। ये बताते हैं कि आप बीमार हैं या होने वाले हैं। इसके लिए आप लगातार डेंटिस्ट के संपर्क में रहें। वे भी बता सकते हैं कि आपके साथ क्या दिक्कत है। दांत के बारे में इन 5 चीजों (5 things your teeth) को जानकर आप अपने हेल्थ का अपडेट ले सकते हैं। ये रिपोर्ट द सन में पब्लिश एक रिपोर्ट पर आधारित है, जिसे कुछ डेंटिस्ट एक्सपर्ट से बात करके तैयार किया गया है।

एनीमिया और पीले मसूड़े

पीले मसूड़े एनीमिया के कारण हो सकते हैं। ज्यादातर आयरन की वजह से भी ऐसा होता है। हालांकि लोगों में कुछ रंग की विभिन्नताएं भी होती है। इसलिए भी आपको दूसरों की तुलना में खुद के मसूड़े पीला या गहरा पीला दिखाई दे सकता है। आमतौर पर अगर मसूढ़ों में दर्द या खून नहीं आता है, तो हम उन पर ज्यादा ध्यान नहीं देते हैं। लेकिन अगर आप देखते हैं कि आपके मसूड़े अचानक काफी पीले दिख रहे हैं और आप थकान या चक्कर आने का अनुभव कर रहे हैं तो आपको तुरन्त डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए।

दांत खराब होना और किडनी की बीमारी

किडनी की बीमारी से मुंह के छाले हो सकते हैं। स्वाद में बदलाव हो सकता है। मुंह में लार की कमी हो सकती है। फिर जब मुंह सूख जाता है तो एसिडिटी बढ़ जाती है और कम पीएच की वजह से दांत गिरना शुरू हो सकते हैं। कुछ रिसर्च में यह भी पता चलता है कि मसूड़े की बीमारी वाले रोगियों में किडनी की बीमारी का खतरा बढ़ जाता है। अगर आपके मुंह के छाले या स्वाद में बदलाव देखा है, तो यह किडनी की बीमारी के अन्य लक्षणों में से एक हो सकता है।

खाने में दिक्कत और दांतों का इनेमल

अगर आपको खाने में दिक्कत हो रही है। उल्टी आ रही है। ऐसे में आपको इनेमल कवर को हटाने की जरूरत है। उसका रंग और साइज ये बताते हैं कि वे खराब हो रहे हैं। इससे आपके दांतों को भी नुकसान पहुंच सकता है।

ऑस्टियोपोरोसिस और दांतों का गिरना

आमतौर पर ब्रश करने के अलावा हम दांतों के लिए और कुछ भी नहीं करते हैं। यानी उनकी ज्यादा केयर नहीं करते हैं। ऐसे में अगर कभी भी आपको लगता है कि आपके दांत थोड़ ढीले हैं तो आप ऑस्टियोपोरोसिस से पीड़ित हो सकते हैं। दरअसल, दांतों को उसके आस-पास वाली हड्डी सहारा देती है, जिससे वे जुड़े होते हैं। दांत हिलने पर डॉक्टर को भी दिखाना चाहिए। टेस्ट के दौरान ही पता चल पाता है कि दांत नॉर्मल हिर रहे हैं या उनमें किसी तरह की दिक्कत है।

ओरल थ्रश और एचआईवी

ओरल थ्रश क्या होता है, इसे आसान भाषा में समझिए कि जब आपकी जीभ पर एक सफेद लेयर जम जाती है तो उसी हे ओरल थ्रश कहते हैं। ये फंगश की वजह से होता है। आम तौर पर स्वस्थ लोगों में ओरल थ्रश नहीं देखा जाता है। लेकिन एचआईवी रोगियों में इम्युनिटी कमजोर होती है, इसलिए उनमें ओरल थ्रश और ऐसे दूसरे इनफेक्शन के खतरे ज्यादा होते हैं। ओरल थ्रश के लक्षणों की बात करें तो मुंह के कोनों में दरारें, चीजों को ठीक से न चखना, मुंह के अंदर दर्द शामिल हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button