SBI ने दी चेतावनी, सावधानी से स्कैन करें QR Code

नई दिल्ली. अगर आप भी करते हैं क्यूआर कोड का इस्तेमाल तो सावधान हो जाएं। बता दें , क्यूआर कोड से पेमेंट करने से फ्रॉड बढ़ते जा रहा है। यह सूचना SBI ने ग्राहकों को देकर आगाह किया है। भुगतान का उद्देश्य होने पर ही साझा करे गए क्यूआर कोड को स्कैन करें। देश को कैशलेस व डिजिटल बनाने के लिए ऑनलाइन पेमेंट आवश्यक है और कोरोना काल में इसकी उपयोगिता और बढ़ गई है। दरअसल, टेक्नोलॉजी ने हमारे जीवन को काफी आरामदयाक बना दिया है। फिर भी, इसका इस्तेमाल करते वक़्त सतर्क रहना आवश्यक है। इससे सायबर ठग के भी ठगी करने की अवसर बढ़ गया है।

क्यूआर कोड लोगों को धोखा देने के लिए उनके लिए एक तेजी से लोकप्रिय तरीका बन गया है. अधिक से अधिक लोग ऑनलाइन ट्रांजेक्शन की ओर बढ़ रहे हैं, उसी से संबंधित धोखाधड़ी भी बढ़ रही है.

SBI ने ट्वीट कर लोगों को किया Alert
एसबीआई ने ट्वीट किया है, ‘जब आप एक क्यूआर कोड स्कैन करते हैं तो आपको पैसे नहीं मिलते हैं. आपको केवल एक संदेश मिलता है कि आपका बैंक अकाउंट ‘XX’ राशि के लिए डेबिट किया गया है. अगर आपको भुगतान न करना होतो किसी के द्वारा शेयर किए क्यूआर कोड को स्कैन बिल्कुल न करें. हमेशा सर्तक रहें.’ SBI ने ढाई मिनट का एक वीडियो भी शेयर किया है जिसमें यह बताया गया है कि क्यूआर कोड को स्कैन करने से वास्तव में आपके बैंक खाते से पैसे कैसे डेबिट हो जाएंगे.

साथ ही याद रहे कि क्यूआर कोड को केवल भुगतान करने के लिए स्कैन करने की आवश्यकता है न कि धन प्राप्त करने के लिए.

क्यूआर कोड धोखाधड़ी कैसे होती है?
घोटाले की शुरुआत किसी ऑनलाइन बिक्री वेबसाइट पर किसी प्रोडक्ट को डालने से होती है. तभी धोखेबाज खरीदार के रूप आता है और टोकन राशि का भुगतान करने के लिए क्यूआर कोड साझा करते हैं. वे फिर एक क्यूआर कोड बनाते हैं और इसे वॉट्सएप या ईमेल के माध्यम से इच्छित शिकार के साथ साझा करते हैं. वे पीड़ित को उनके द्वारा भेजे गए क्यूआर कोड को स्कैन करने के लिए कहेंगे ताकि वे सीधे उनके बैंक खातों में धन प्राप्त कर सकें. उन पर विश्वास करते हुए, पीड़ित धोखेबाजों द्वारा भेजे गए क्यूआर कोड को स्कैन करते हैं, यह मानते हुए कि उन्हें उनके खाते में पैसा मिल जाएगा, लेकिन वे पैसे खो देते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button