जानिये एक ऐसे जहरीले सांप (Snake) के बारे में जिसका जहर पिघला सकता है इंसानी शरीर का मांस

वर्ल्ड | धरती पर 3000 से ज्यादा सांपों (Snake) की प्रजातियां पाई जाती हैं। कुछ सांप (Snake) ऐसे होते हैं जो देखने में तो डेंजर होते हैं लेकिन उनके काटने से इंसान की मौत नहीं होती है। लेकिन, कुछ सांप (Snake) इतने जहरीले होते हैं कि सेकंड्स में ही इंसान की सांस थम जाती है। क्या कभी आपने ऐसे सांपों (Snake) के बारे में सुना है जिनके काटने से इंसान का मांस मेल्ट हो जाए। शायद नहीं। लेकिन ब्राजील में ऐसे सांप पाए जाते हैं। इतना ही नहीं, ब्राजील में ऐसी जगह है जहां पर दुनिया के सबसे विषैले और बड़े सांप पाए जाते हैं। इस जगह पर जाने से पहले इंसान सौ बार सोचता है। ब्राजील की इस जगह का नाम इल्हा दा क्यूइमाडा ग्रांडे (Ilha da Queimada Grande) है। दुनिया का सबसे खतरनाक सांप किसे और क्यों कहा जाता है…?

इल्हा दा क्यूइमाडा ग्रांडे (Ilha da Queimada Grande) को दुनिया के सबसे घातक द्वीपों में से एक कहा गया है, क्योंकि यहां दुनिया में सबसे ज्यादा जहरीले सांप पाए जाते हैं। यानी अगर आप ओफिडियोफोबिया (ophidiophobia) यानी सांपों से डरते हैं तो ये जगह आपके लिए घातक साबित हो सकती है।

ब्राजील के स्नेक आइलैंड या इल्हा दा क्यूइमाडा ग्रांडे (Ilha da Queimada Grande) साओ पाउलो (Sao Paulo) शहर से लगभग 90 मील की दूरी पर है। इस द्वीप को दुनिया के सबसे घातक द्वीपों में से एक कहा गया है क्योंकि यहां दुनिया में सबसे अधिक जहरीले सांप पाए जाते हैं।

इल्हा दा क्यूइमाडा ग्रांडे (Ilha da Queimada Grande) में सामान्य सांप नहीं रहते हैं। यहां दुनिया के सबसे विषैले सांप रहते हैं। कहा जाता है कि यहां पाए जाने सांप का जहर किसी भी अन्य जगह के सांप की तुलना में तीन से पांच गुना ज्यादा विषैला होता है। ये इंसान के मांस तक को पिघला देने की क्षमता रखते हैं। इन्होंने जिसे काट लिया, उसकी एक घंटे के अंदर मौत हो जाएगी।

इल्हा दा क्यूइमाडा ग्रांडे (Ilha da Queimada Grande) पर पाए जाने वाले डेंजर सांपों में से एक गोल्डन लांसहेड वाइपर (Golden Lancehead Viper) है। Golden Lancehead Viper डेढ़ फीट से अधिक लंबा हो सकता है। इस द्वीर पर इनकी संख्या करीब 2000 से 4000 है।

Ilha da Queimada Grande दुनिया की एकमात्र जगह है जहां गोल्डन लांसहेड वाइपर पाया जाता है। लांसहेड सांप उत्तर और दक्षिण अमेरिका में सबसे अधिक इंसान की मौत के जिम्मेदार हैं। Ilha da Queimada Grande पर सांप कहां से आए? दरअसल, एक समय में ये द्वीप जमीन से जुड़ा था, लेकिन बढ़ते समुद्र के स्तर ने लगभग 11000 साल पहले द्वीप को तट से अलग कर दिया था।

द्वीप पर फंसे सांपों की संख्या तेजी से बढ़ी क्योंकि इस द्वीप पर कोई शिकारी नहीं पहुंच सका। दूसरे जानवर भी नहीं थे जो सांपों का शिकार कर सके। यहां के अधिक जहरीले तेज-तर्रार सांप पक्षियों का शिकार करने में सक्षम थे, जिससे वे धीरे-धीरे अपनी संख्या बढ़ाते गए।

मन में ये भी सवाल आ रहा होगा कि क्या यहां कभी इंसान भी रहते थे। जवाब है हां। यहां अभी कोई नहीं रहता, लेकिन थोड़े समय के लिए 1920 के दशक के अंत तक लोग यहां रहते थे। स्थानीय लोगों के मुताबिक स्थानीय लाइटहाउस कीपर और उनके परिवार को सांपों ने मार डाला। नौसेना समय-समय पर रखरखाव के लिए लाइटहाउस का दौरा करती है और यह सुनिश्चित करती है कि कोई भी इस द्वीप के बहुत करीब न जाए। खतरे की वजह से ब्राजील सरकार ने इल्हा दा क्यूइमाडा ग्रांडे की यात्रा करने पर बैन लगा दिया है।

यहां बैन लगाने की एक और वजह है। यहां पाए जाने वाले Golden Lancehead Viper की बाजार में अच्छी कीमत मिलती है। एक सिंगल गोल्डन लांसहेड (Golden Lancehead Viper) 10,000 अमरीकी डालर से 30,000 अमरीकी डालर तक बेचा जा सकता है। पिछले 15सालों में इल्हा दा क्यूइमाडा ग्रांडे पर सांपों की आबादी में लगभग 50 प्रतिशत की कमी आई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button