पीड़ित परिजनों का बड़ा आरोप, हॉस्पिटल (Hospital) ने वसूले 7 लाख!, फिर भी नहीं बच पाई मां की जिंदगी, सिर्फ गोलमोल जवाब देते रहे अस्पताल प्रशासन, कार्रवाई की मांग

रायपुर।  एक बार फिर निजी हॉस्पिटल (Hospital) पर बड़ा आरोप लगा है। पीड़ित परिजनों का कहना है कि 7 लाख रुपये देने के बाद मेरी मां की जान चली गई। उन्होंने दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग की है। कृष्णा नगर निवासी प्रदीप कुमार पांडेय ने प्रेसवार्ता लेकर ये आरोप लगाया है। उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा कि मेरी मां विजयलक्ष्मी पाण्डेय कृष्णा नगर रायपुर निवासी जो पूर्ण स्वस्थ थी।मेरी माता को वैक्सीन लगने के बाद बुखार हुआ था। उसके बाद निजी हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया था। भर्ती कराने के बाद मां की हालत की ख़राब हो रही थी। लेकिन डॉक्टरों के द्वारा ठीक से ट्रीटमेंट नहीं किया। साथ ही जाँच भी लापरवाही भी बरती गई।

पीड़ित का कहना है कि हॉस्पिटल (Hospital) से छुट्टी कराकर मां को ले जाना चाह रहा था, लेकिन युवराज खेमका ने मुझे बोला कि माताजी को 7 दिन और रहने दो. मेरी बात को टाल दिया गया। जब 26 मार्च 2021 को दोपहर को गया तो देखा कि मेरी मां को आईसीयू लेकर गए। जब आईसीयू में गया तो मुझे गार्ड द्वारा नहीं जाने दिया। जब मैं जबरदस्ती आईसीयू में जाकर देखा तो मेरी मां की मृत्यु पहले से ही हो चुकी थी।

इस बात को लेकर डॉक्टरों को चिल्लाया तो उन्होंने धमकी दी। पीड़ित का आरोप है कि डॉक्टरों ने धमकी देते हुए कहा कि तुम्हारा भाई अभी भी अस्पताल में भर्ती है। इस धमकी से मैं डर गया और चुप हो गया। क्योंकि मैं डर गया था कि मेरा को भी कही मार ना दें। पीड़ित परिवार ने निजी हॉस्पिटल (Hospital) के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग की है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button