मालिक का पैसा हड़पने का बनाया प्लान, आरोपी पुलिस के गिरफ्त में

घटना को सही साबित करने के लिए खुद को किया घायल

रायपुर। नेकी कर दरिया में डाल आपने ये कहावत तो सुनी ही होगी। इस कहावत से मिलती जुलती घटना धरसींवा थाना क्षेत्र में घटित हुई जहां एक कर्मचारी ने अपने ही मालिक का पैसा हड़पने की योजना बनाई और उसको अपने साथियों के साथ अंजाम दिया। हालांकि उनकी चालाकी चली नहीं और सभी आरोपी पुलिस के गिरफ्त में हैं। पुलिस ने आरोपियों को के पास से नगद रकम बरामद किया है।

ऐसे दिया घटना को अंजाम
धरसींवा पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार आमिर खान धरसींवा निवासी विगत दिनों पूर्व अपने परिचित से 1,11,000 रूपए उधार लिया था। इस पैसे को वापस करने के लिए अपने मुंशी हैदर अली को सिलतरा भेजा था। इसी दौरान दोपहर करीबन 2 बजे प्रार्थी के मुंशी हैदर अली ने फोन कर के बताया कि आप ने जो पैसे दिए थे वह रकम रास्ते में कहीं गिर गया। जब प्रार्थी ने और सवाल पूछा तो उसे जवाब संतोषजनक नहीं लगा। जिसके बाद आमिर ने हैदर अली के खिलाफ थाना धरसींवा में अपराध दर्ज कराया।

आरोपी ऐसे पकड़ में आए
इस घटना के बाद पुलिस अधीक्षक प्रशांत अग्रवाल द्वारा गंभीरता से लेते हुए आरोपी को गिरफ्तार करने के लिए निर्देश दिया। इस पर वरिष्ठ अधिकारियों के निर्देशन में सायबर सेल एवं थाना धरसींवा की संयुक्त टीम बनाई गई। इस घटना के आरोपी मुंशी हैदर को थाना बुलाकर पूछताछ किया गया। जहां उसने बताया कि सिलतरा के पास 3 से 4 लड़के 2 मोटरसाइकिल में आकर धारदार हथियार दिखा कर उसे नगदी रकम लूट ले गए। वहीं पुलिस टीम को संदेह हुआ कि आरोपी बार बार अपना बयान बदल रहा है और गुमराह कर रहा है। इस पर पुलिस ने कड़ाई से पूछताछ की जहां आरोपी अपने झूठ के सामने टिक न सका अंततः अपने साथी के साथ मिलकर रकम गबन करने की बात कबूल की। वहीं आरोपियों ने पुलिस वालों को गुमराह करने के लिए खुद के हाथ पर धारदार हथियार से वार किया था।

इनकी हुई गिरफ्तारी
इस घटना को अंजाम देने वाले तीनों आरोपियों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। जिनमें आरोपी हैदर अली पिता खिजर अली, खालिद पिता ईकराम सैफी, भूपेन्द्र पनागर पिता जगदीश पनागर है। वहीं पुलिस को संदेह है कि तीनों आरोपी अन्य घटना में सम्मलित है इसके लिए पूछताछ जारी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button