acidity को ठीक करने के लिए आप इन योग मुद्राओं को कर सकते है फॉलो

धूम्रपान और गलत खान-पान से हो जाती है एसिडिटी

लाइफस्टाइल | अपने भोजन को ठीक से न चबाना, पर्याप्त मात्रा में पानी न पीना, धूम्रपान और गलत खान-पान से एसिडिटी (acidity) हो सकती है. एसिडिटी (acidity) के लिए भी कई घरेलू उपाय हैं. आप योग मुद्राओं का अभ्यास करके एसिडिटी (acidity) या एसिड रिफ्लक्स को ठीक कर सकते हैं. आइये विस्तार से जानते है इन योग मुद्राओ के बारे में…

पश्चिमोत्तानासन

ये मुद्रा न केवल अंगों को ठीक से काम करने और पाचन समस्याओं का इलाज करने में मदद करेगी बल्कि मासिक धर्म चक्र को भी नियंत्रित करेगी और पेट की चर्बी को कम करेगी. अपने पैरों को अपने सामने और हाथों को बगल में फैलाकर फर्श पर बैठकर शुरुआत करें. सुनिश्चित करें कि आपका कोर लगा हुआ है और रीढ़ सीधी है. अब अपने हाथों को आगे बढ़ाएं और अपने पैर की उंगलियों को छूने की कोशिश करें. अगर आप यहां सहज हैं तो इन्हें पकड़ने की कोशिश करें. लगभग पांच मिनट तक इस स्थिति में रहें और फिर मूल स्थिति में लौट आएं. ऐसा करीब 10 बार करें.

मार्जरीआसन

मार्जरीआसन आपके शरीर में ब्लड सर्कुलेशन में सुधार करता है. ये पाचन तंत्र को स्वस्थ रखता है. ये मुद्रा आपके शरीर को खिंचाव और आराम देती है. अपनी हथेलियों को अपने कंधे के नीचे और घुटनों को अपने कूल्हों के नीचे रखते हुए चारों तरफ खड़े होकर शुरुआत करें. अब सांस लेते हुए अपनी ठुड्डी को ऊपर उठाएं. अपने पेट को फर्श की ओर धकेलें. सांस छोड़ें. अपने सिर को नीचे फर्श की ओर झुकाएं. अब वापस मूल स्थिति में आ जाएं. इसे लगभग पांच बार दोहराएं.

वज्रासन

खाने के तुरंत बाद वज्रासन करने से आपको खाना ठीक से पचने में मदद मिलेगी और एसिडिटी से बचाव होगा. ये आसन आंत और पेट में ब्लड सर्कुलेशन में सुधार करेगा, पाचन प्रक्रिया में सुधार करेगा. फर्श पर घुटने टेकना शुरू करें. अब वापस एड़ियों के बल बैठ जाएं. अपनी रीढ़ और सिर को सीधा रखें और अपना हाथ घुटनों पर रखें. लगभग 10 मिनट तक इस स्थिति में रहें और अपनी श्वास पर ध्यान केंद्रित करें. अपनी सामान्य बैठने की स्थिति में लौटें.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button