पाकिस्तानी prime minister के इस मंत्री ने तालिबान का किया समर्थन, जानिये क्या कहा

दुनिया को अफगानिस्तान के बारे में जमीनी हकीकत को समझने की जरूरत है - शेख रशीद अहमद

वर्ल्ड | पाकिस्तान (Pakistan) लंबे समय से तालिबान (Taliban) की मदद करता आ रहा है, ये बात किसी से छिपी नहीं है. पाकिस्तान (Pakistan) के प्रधानमंत्री इमरान खान (Imran Khan) समेत उनकी सरकार के मंत्री भी लगातार चरमपंथी संगठन के पक्ष में बयानबाजी कर रहे हैं. पड़ोसी मुल्क के गृह मंत्री शेख रशीद अहमद (Sheikh Rashid Ahmed) ने कहा है कि तालिबान को सरकार बनाने और अपने देश के मामलों को चलाने के लिए समय दिया जाना चाहिए. साथ ही उन्होंने अंतरराष्ट्रीय समुदाय से अफगानिस्तान में जमीनी हकीकत को समझने की गुजारिश की.

डॉन अखबार के अनुसार, पाकिस्तानी (Pakistan)  गृह मंत्री ने कहा कि मौजूदा स्थिति में अफगानों को अकेला नहीं छोड़ा जाना चाहिए और मानवीय आधार पर उन्हें भोजन, दवाएं और अन्य आवश्यक सामान उपलब्ध कराया जाना चाहिए. गुरुवार को इस्लामाबाद (Islamabad) में शरणार्थियों के लिए संयुक्त राष्ट्र (United Nations) के उच्चायुक्त फिलिपो ग्रांडी के साथ एक बैठक के दौरान, रशीद ने कहा कि पाकिस्तान तालिबान शासित अफगानिस्तान (Afghanistan) में स्थायी शांति चाहता है. उन्होंने अफगानिस्तान में शासन के लिए वित्तीय और मानव संसाधन की आवश्यकता पर बल दिया.

द न्यूज इंटरनेशनल ने रशीद के हवाले से कहा, ‘दुनिया को अफगानिस्तान के बारे में जमीनी हकीकत को समझने की जरूरत है.’ इमरान के मंत्री ने यह भी कहा कि अफगानिस्तान में मौजूद अफगान नागरिकों और विदेशियों को निकालने में पाकिस्तान चौबीसों घंटे काम कर रहा है. उन्होंने कहा, ‘वर्तमान समय में, पाकिस्तान में कोई भी अफगान शरणार्थी नहीं है और कोई शरणार्थी शिविर नहीं है.’ तालिबान ने पिछले हफ्ते ‘इस्लामिक अमीरात ऑफ अफगानिस्तान’ में अंतरिम सरकार का गठन किया. इस सरकार में सिर्फ कट्टरपंथियों को जगह दी गई है और महिलाओं का कोई भी प्रतिनिधित्व नहीं रहा.

पाकिस्तान और तालिबान गहरे रिश्ते रहे हैं, इस पर चरमपंथी संगठन को खुले तौर पर और गुप्त से समर्थन देने का आरोप लगाया गया है. हालांकि, इस्लामाबाद ने इन आरोपों को खंडन किया है. कई देशों ने कहा है कि वे तालिबान को तभी मान्यता देंगे, जब वो एक समावेशी अफगान सरकार और मानवाधिकार सुनिश्चित करने के अपने वादों को पूरा करता है. इस हफ्ते की शुरुआत में ग्रैंडी ने देश के अंदर अफगानों और विदेश भाग गए शरणार्थियों के लिए तत्काल और निरंतर समर्थन की अपील की. गौरतलब है कि विदेशी दानदाताओं ने अफगानिस्तान को दी जाने वाली सहायता को सस्पेंड कर दिया है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button