TopTextSliderछत्तीसगढ़ट्रेंडिंग

मंत्रिमंडल और CM का किसान होना भाजपा के लिये सबसे बड़ी चुनौती : भूपेश

कांग्रेस का आरोप : भाजपा का राज्य और राष्ट्रीय नेतृत्व किसान को नफरत के योग्य समझता है।

रायपुर। मंत्रिमंडल और CM का किसान होना भाजपा के लिये सबसे बड़ी चुनौती है । मुख्यमंत्री भूपेश बघेल (Chief Minister Bhupesh Baghel) ने यह बात कांग्रेस भवन में पत्रवार्ता के दौरान कही।

मुख्यमंत्री भूपेश ने भाजपा की छत्तीसगढ़ प्रभारी डी पुरंदेश्वरी के तीन दिवसीय चिंतन शिविर के दौरान थूकने संबंधी बयान पर आपत्ति दर्ज़ की। श्री बघेल ने
कहा कि यह किसान और पिछड़ा वर्ग के लोगों का अपमान है। प्रदेश की जनता यह बर्दास्त नहीं करेगी। इसका खामियाज़ा भी भारतीय जनता पार्टी को भुगतना होगा।

मुख्यमंत्री बघेल(Chief Minister Bhupesh Baghel) ने कहा कि भाजपा प्रदेश प्रभारी डी पुरंदेश्वरी के बयान भाजपा की ओर से अभी तक कोई  खंडन नहीं आया है। जबकि चिंतन शिविर में राष्ट्रीय नेतृत्व और पदाधिकारी शामिल थे। उन्होंने आगे कहा कि भाजपा प्रभारी ने चिंतन शिविर में कहा था कि ‘हमारी सबसे बड़ी चुनौती CM और मुख्यमंत्री का किसान होना है’। ‘थूक देंगे तो सरकार बह जाएगी’। ये छत्तीसगढ़ की धरती माता कौशल्या, माता शबरी की है, मिनी माता की है। यहां नारियों की पूजा होती है। हमारे व्यवहार में लिगांनुपात महिलाओं का सबसे अच्छा है। यहां पर्दा प्रथा नहीं है। छत्तीसगढ़ में हमेशा नारियों का सम्मान रहा है। पुरंदेश्वरी के बारे में मैं कुछ नहीं कहूंगा, वो भी सम्माननीय हैं।

लेकिन इससे साबित होता है कि हमारे लिए भाजपा के मन में इतनी नफरत है। पहले मैं किसान हूँ, फिर बाद में मुख्यमंत्री हूँ। मतलब इन्होंने किसान पर थूकने की बात कही है। ये मंत्रिमंडल राज्य का प्रतिनिधित्व करती है। इसका मतलब प्रभारी के मन में घृणा है। नफरत है। ऐसा बयान छत्तीसगढ़, छत्तीसगढ़िया का अपमान है। इनकी सोच, इन्हें मुबारक। हमारे मन में नफरत, घृणा नहीं है। इस धरती में प्रेम बाँटा जाता है। ये लोग नफरत की फसल बो रहे हैं। इस बयान में भाजपा के तरफ से कोई माफीनामा नहीं आया। इसका मतलब ये है कि भाजपा का राज्य और राष्ट्रीय नेतृत्व किसान को नफरत के लायक मानते हैं।

Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button