सरकारी नौकरी लगाने के नाम पर दो युवतियां हुई ठगी का शिकार, रिटायर्ड फौजी पुलिस के गिरफ्त में

रायपुर। छत्तीसगढ़ के दुर्ग जिले में सरकारी नौकरी लगाने के नाम पर ठगी करने वाले एक रिटायर्ड फौजी को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। आरोपी ने दो लड़कियों को रेलवे में नौकरी दिलाने का झांसा देकर 10 हजार रुपए लिए थे। लड़कियों को लेकर वह कोलकाता जाने वाला था। इससे पहले ही पुलिस ने उसे दुर्ग रेलवे स्टेशन पर ही दबोच लिया। पुलिस इस मामले को मानव तस्करी के लिहाज से भी क्रेक करने का प्रयास कर रही है।

यह भी पढ़े : घर में घुसकर महिला और बच्चों के साथ की मारपीट, सीसीटीवी में रिकॉर्ड घटना

ऐसे पकड़ में आया आरोपी
मोहन नगर थाना प्रभारी जितेन्द्र वर्मा ने बताया है कि आरोपी उत्तम खांडेकर उम्र 50 वर्ष महाराष्ट्र के गोंदिया का रहने वाला है। वह आर्मी में 18 साल नौकरी करने के बाद रिटायर हुआ है। आरोपी की कुछ दिन पहले भिलाई के एक मार्ट में एक युवती से पहचान हुई थी। पहचान के दौरान उसने रेलवे में अच्छी नौकरी लगाने का झांसा दिया। विश्वास कर युवती ने अपनी सहेली को भी जानकारी दी। दोनों सहेलियां रेलवे में नौकरी करने के लिए सहमत हो गई। आरोपी ने उन्हें कोलकाता में नौकरी करने के लिए मेडिकल कराने के लिए ट्रेन में रिजर्वेशन कराने उनसे 20 अगस्त को 5-5 हजार रुपए ले लिए थे। वहीं नौकरी लगने पर एक.एक महीने के वेतन की मांग की थी। जिस पर युवतियों ने उसे 10 हजार रुपए की रकम दी थी। आरोपी दोनों लड़कियों को कोलकाता ले जाने के विए रेलवे स्टेशन दुर्ग से रवाना होने वाला था लेकिन उससे पहले ही पुलिस वहां आ धमकी।

यह भी पढ़े : GP Singh को SC से मिली रहत, गिरफ्तारी पर लगी रोक

शिकायत के आधार पर हुई कार्रवाई
पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार कुछ परिचितों से चर्चा करने पर उन्हें ठगे जाने का अहसास हुआ था। इस पर उन्होंने रकम वापस करने कि मांग की। लेकिन आरोपी ने उस रकम से रिजर्वेशन करा लेने की जानकारी दी। वहीं इस मामले की शिकायत पुलिस में की गई्। शिकायत के आधार पर कार्रवाई करते हुए पुलिस ने आरोपी रिटायर फौजी को स्टेशन से धर-दबोच लिया। थाना प्रभारी ने बताया कि आरोपी फौजी पर मानव तस्करी का संदेह होने पर आगे की पूछताछ की जा रही है।

यह भी पढ़े : भारतीय जनता पार्टी ने लगाया आरोप, भूपेश सरकार को परोसी हुई थाली मिली उसे भी नहीं खा पा रहें…बृजमोहन अग्रवाल

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button