भाद्रपद माह में खान-पान का रखें विशेष ध्यान, वरना हो सकती है परेशानी

रायपुर। हिन्दी पंचांग का छठा और चातुर्मास का दूसरा महीना है भाद्रपद (Bhadrapada)। चातुर्मास के चार महीनों में जप, तप और ध्यान करने का विशेष महत्व है। इन महीनों में खान-पान और जीवन शैली में जरूरी बदलाव करना स्वास्थ्य की दृष्टि से लाभदायक रहता है। जो लोग चातुर्मास में अनुशासन बनाए रखते हैं, उन्हें स्वास्थ्य के साथ ही धर्म लाभ भी मिलता है।

भाद्रपद (Bhadrapada) माह में बलराम, श्रीकृष्ण और गणेश जी प्रकट हुए थे। इस माह के कृष्ण पक्ष की षष्ठी पर बलराम और अष्टमी तिथि पर श्रीकृष्ण का प्रकटउत्सव मनाया जाता है। शुक्ल पक्ष की चतुर्थी से दस दिवसीय गणेश उत्सव शुरू होता है। ये माह पूजा-पाठ और स्वास्थ्य के नजरिए से बहुत महत्व पूर्ण है। इन दिनों में ऐसी चीजें खाने से बचें, जिन्हें पचने में अधिक समय लगता है, जैसे मेदे वाली चीजें, अधिक तेल वाली चीजें आदि। इस माह (Bhadrapada) में ज्यादा मसालेदार और तैलीय चीजों के चक्कर में न पड़ें और सेहतमंद चीजों को खाने में शामिल करें।

सूर्य का प्रकाश हम तक पहुंच पाने के कारण पाचन तंत्र प्रभावित

अभी बारिश का समय है। ऐसे में सूर्य का प्रकाश हम तक पहुंच नहीं पाता है। इस वजह से हमारा पाचन तंत्र पूरी शक्ति के साथ काम नहीं कर पाता है। ऐसी स्थिति में हमें खाने में वह चीजें शामिल करनी चाहिए जो आसानी से पच जाती है। ये हमारे स्वास्थ्य के लिए बहुत लाभदायक है। इसके साथ नियमित रूप में योगा भी करना चाहिए। पूजा-पाठ करें और भगवान के मंत्रों का जाप करें। ध्यान करें। ऐसा करने से मानसिक रूप से हम शक्तिशाली बनते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button